scriptBrother came riding 450 bike and got burnt with sister | 450 किमी भूखा-प्यासा बाइक से पहुंचा और बहन की चिता पर जल गया जिंदा | Patrika News

450 किमी भूखा-प्यासा बाइक से पहुंचा और बहन की चिता पर जल गया जिंदा

भाई-बहन के अनूठे प्रेम की कहानी सामने आई है, एक बहन की मौत हो जाने के बाद भाई 450 किलोमीटर दूर से बाइक चलाकर आया और भूखा-प्यासा ही बहन की चिता पर लेटकर जिंदा जल गया.

सागर

Published: June 13, 2022 03:41:39 pm

सागर. मध्यप्रदेश में भाई-बहन के अनूठे प्रेम की कहानी सामने आई है, एक बहन की मौत हो जाने के बाद भाई 450 किलोमीटर दूर से बाइक चलाकर आया और भूखा-प्यासा ही बहन की चिता पर लेटकर जिंदा जल गया, ऐसे में घरवालों ने भी बहन की चिता के पास ही भाई की चिता जलाई, तो हर किसी की आंखें आंसुओं से नम हो गई।

450 किमी भूखा-प्यासा बाइक से पहुंचा और बहन की चिता पर जल गया जिंदा
450 किमी भूखा-प्यासा बाइक से पहुंचा और बहन की चिता पर जल गया जिंदा

जानकारी के अनुसार सागर जिले के मझगुवां गांव में एक ज्योति उर्फ प्रीति (21) की मौत कुए में डूबने के कारण हो गई थी, वह घर से खेत पर जाने का बोलकर गई थी, लेकिन जब काफी देर बाद भी नहीं आई तो परिजनों ने उसे ढूंढना शुरू किया, इसके बाद उसका शव कुए से मिला, इस घटना की जानकारी ज्योति के चचेरे भाई करण ठाकुर (19) को लगी, तो वह धार से सागर जिले तक करीब ३५० किलोमीटर बाइक चलाकर गांव पहुंचा, चूंकि जब तक वह गांव पहुंचा, घरवाले व ग्रामीण उसकी बहन की चिता को अग्नि देकर लौट गए थे, ऐसे में वह सीधे श्मशान घाट पहुंचा और बहन की जलती चिता पर लेट गया, जिससे वह गंभीर रूप से झुलस गया, चूंकि उस दौरान चिता के पास कोई नहीं था, इस कारण वह भावुक होकर चिता पर लेट गया, जिसके कारण वह काफ झुलस गया था, इस बात की जानकारी काफी देर बाद ग्रामीणों को लगी, तो वह उसे अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन तब तक वह रास्ते में ही दम तोड़ चुका था, इसके बाद बहन की चिता के पास ही भाई की चिता जलाई गई, ये नजारा देखकर हर किसी की आंखों में आंसू छलक उठे। इस मामले में सोमवार को ये बात पता चली कि चचेरा भाई धार से सागर जिले तक करीब 450 किलोमीटर बाइक चलाकर पहुंचा था, वह इस दौरान भूखा-प्यासा था और उसने अपनी बहन की चिता पर लेटकर ही जान दे दी।

450 किमी भूखा-प्यासा बाइक से पहुंचा और बहन की चिता पर जल गया जिंदाकर्रापुर चौकी प्रभारी धर्मेन्द्र सिंह के अनुसार करण सिंह के चाचा व अन्य परिजन मझगुवां में रहते हैं, जबकि करण अपने पिता उदय सिंह व परिवार के साथ धार में रहता है। दो दिन पहले खेत पर जाने का कहकर निकली ज्योति अचानक लापता हो गई। परिजन उसकी तलाश करते रहे। अगले दिन सुबह उसका शव पास के कुएं में उतराता मिला। शव निकालने और पुलिस कार्र्रवाई के बाद गांव के मुक्तिधाम पर ज्योति के शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया।
यह भी पढ़ें : इन 13 सड़कों पर नहीं लगेगा 1 भी रुपया टोल टैक्स, जानिये किन वाहनों को मिलेगी छूट

करण सिंह को शनिवार को चचेरी बहन की कुएं में गिरकर डूबने से मौत का पता लगा तो वह दुखी हो गया। वह बाइक लेकर निकला और इंदौर- भोपाल होते हुए दोपहर में अपने गांव मझगुवां पहुंचा। वह घर की जगह सीधे मुक्तिधाम आया और वहां बहन की सुलगती चिता को काफी देर तक देखकर विलाप कराता रहा और फिर उसी पर लेटकर अपनी जीवनलीला समाप्त कर ली। बेटी के बाद बेटे की मौत की खबर से पूरा परिवार सदमे में आ गया। पोस्टमॉर्टम के बाद मिले करण के शव का अंतिम संस्कार मुक्तिधाम में बहन ज्योति की चिता के पास ही किया गया।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

Amravati Murder Case: उमेश कोल्हे की हत्या का मास्टरमाइंड नागपुर से गिरफ्तार, अब तक 7 आरोपी दबोचे गए, NIA ने भी दर्ज किया केसमोहम्‍मद जुबैर की जमानत याचिका हुई खारिज,दिल्ली की अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजाSharad Pawar Controversial Post: अभिनेत्री केतकी चितले ने लगाए गंभीर आरोप, कहा- हिरासत के दौरान मेरे सीने पर मारा गया, छेड़खानी की गईIndian of the World: देवेंद्र फडणवीस की पत्नी अमृता फडणवीस को यूके पार्लियामेंट में मिला यह पुरस्कार, पीएम मोदी को सराहाGujarat Covid: गुजरात में 24 घंटे में मिले कोरोना के 580 नए मरीजयूपी के स्कूलों में हर 3 महीने में होगी परीक्षा, देखे क्या है तैयारीराज्यसभा में 31 फीसदी सांसद दागी, 87 फीसदी करोड़पतिकांग्रेस पार्टी ने जेपी नड्डा को BJP नेता द्वारा राहुल गांधी से जुड़ी वीडियो शेयर करने पर लिखी चिट्ठी, कहा - 'मांगे माफी, वरना करेंगे कानूनी कार्रवाई'
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.