लोगों का अपमान, लड़कियों से छेड़छाड़ और अवैध संबंधों के चलते की गई थी नीलेश की नृशंस हत्या

Sanjay Sharma

Publish: Oct, 12 2019 08:00:00 AM (IST)

Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

सागर. पटकुई-बरारू में मुक्तिधाम के सामने चाकू से गोदकर की गई युवक की हत्या की गुत्थी से शुक्रवार को पुलिस ने पर्दा हटा दिया। दो युवकों ने पूर्व में हुए विवाद में समझौता करने की बातों में उलझाकर नीलेश को हाइवे पर ले जाकर पहले जमकर शराब पिलाई और फिर पटकुई-बरारू में मुक्तिधाम के पास नाले किनारे गर्दन पर चाकू से वार कर उसकी हत्या कर दी थी। मृतक नीलेश उर्फ संतोष उर्फ माधव अहिरवार के शंकरगढ़ व रजाखेड़ी क्षेत्र में कई महिलाओं-युवतियों से संबंध थे। वह मोहल्ले में भी छेड़छाड़ करता था। छेड़छाड़-मारपीट के चलते कुछ विवाद पूर्व में मकरोनिया थाने भी पहुंचे थे और पड़ताल के दौरान इन मामलों ने पुलिस को हत्या की वजह तक पहुंचाया। पुलिस ने हत्या के आरोपी युवकों को गिरफ्तार कर उनके पास से खून से सने चाकू व बाइक जब्त कर ली है।

नफरत के चलते की गई नृशंस हत्या -

एसपी अमित सांघी ने शुक्रवार को कंट्रोल रूम में नीलेश उर्फ संतोष (22) की हत्या का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि दशहरे को प्रतिमा विसर्जन कर शाम 7.30 बजे नीलेश घर लौटा था। कपड़े बदलकर वह रात 8 बजे घर से निकला लेकिन देर रात तक वापस नहीं लौटा। सुबह उसकी तलाश करते हुए परिजनों ने मकरोनिया थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई और दोपहर करीब 2.30 बजे पटकुई में मुक्तिधाम के सामने पड़े शव की पहचान नीलेश के रूप में कर ली गई। गले पर आधा दर्जन गहरे जख्म से हत्या के पीछे अत्यधिक नफरत की स्थिति सामने आई थी।

पहले शराब पिलाई फिर चाकू से गोद डाला -

टीआइ सतीश सिंह के अनुसार आरोपी बृजेन्द्र और विक्रम ने बताया कि जब नीलेश की हरकतें सहने की क्षमता से आगे बढ़ गई थीं तब उसे ठिकाने लगाने का मन बनाया। दशहरे पर प्रतिमा विसर्जन के दौरान उससे बात कर झगड़ा भूलकर दोस्ती करने का झांसा दिया। उसे हाइवे ले गए और शराब पी। नीलेश को नशा होने पर पटकुई आए और मुक्तिधाम के सामने नाले किनारे चाकू से गोद कर जान ले ली। इस अंधे कत्ल में पुलिस के सामने कोई ठोस सुराग नहीं था। मौके पर मिले किसी युवती के सैंडिल ने भी घटना को लेकर दुविधा खड़ी कर दी थी। इस मामले में अलग-अलग कडिय़ां जोडऩे में एसआई देवराज सिंह, जेजे चौधरी, पीएसआई शशिकांत गुर्जर, संजय बामनिया, प्रआ राजपाल ङ्क्षसह, रामसेवक मिश्रा, आशीष सिंह, अभिषेक गौतम, मणिशंकर, दिनेश यादव व महिला आरक्षक प्रीति थापा भी सक्रिय रहे। टीम को पुरस्कार की घोषणा भी की गई है।

कई लोग थे मृतक की हरकतों से परेशान -

एएसपी राजेश व्यास ने बताया कि हत्या की पड़ताल कर रही पुलिस के समाने मृतक नीलेश उर्फ संतोष की हरकतें सामने आई थी। लोगों ने बताया कि नीलेश रसिक प्रवृत्ति का था और उसके मोहल्ले व रजाखेड़ी में कई महिलाओं-युवतियों के साथ संबंध थे। मोहल्ले की लड़कियों से छेड़छाड़ करने से भी वह बाज नहीं आता था। बेटी से छेड़छाड़ से मना करने पर नीलेश ने एक उम्रदराज व्यक्ति से मारपीट कर दी थी। नीलेश द्वारा कुछ लड़कियों के भाइयों से अशोभनीय बातें कर डराने-धमकाने की बातें भी पुलिस के सामने आई हैं।

नफरत का घूंट पीकर बैठे थे, मौका मिलते ही ठिकाने लगाया -

सीएसपी आरडी भारद्वाज पुलिस के हत्थे चढ़े मकरोनिया निवासी आरोपी बृजेन्द्र पिता भगवानदास अहिरवार और विक्रम अहिरवार को पुलिस ने कुछ महीने पहले हुए विवाद का पता लगते ही दबोच लिया था। दशहरे से एक दिन पहले भी उनके बीच कहासुनी हुई थी। इनमें से बृजेन्द्र शासकीय शिक्षक का बेटा है और बीए,एलएलबी कर रहा है। वहीं विक्रम भवन निर्माण का काम करता है। दोनों ने बताया कि नीलेश ने कई परिवारों को परेशान कर दिया था। वह आते-जाते किसी का भी अपमान करता था। रास्ते से गुजरती लड़कियों पर छींटाकशी उनके भाई और माता-पिता के सामने ही कर देता था। शायद ही कोई दिन ऐसा बीतता था जब नीलेश किसी से विवाद नही करता हो। उसके कारण अपमान का घूंट पीकर चुप बैठे थे लेकिन दशहरे के एक दिन पहले उसने विवाद किया तो ठिकाने लगाने का मन बना लिया।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned