नियमों को दरकिनार कर कॉलोनाइजर्स ने खेतों में बना दी अवैध कॉलोनियां

परेशानी होने पर नपा के चक्कर काटते हैं लोग

By: anuj hazari

Published: 19 Sep 2020, 09:15 AM IST

बीना. नगरपालिका क्षेत्र में कॉलोनाइजर्स ने नियमों को दर किनार कर खेतों में कई अवैध कॉलोनियां बसा दी हैं, स्थिति यह है कि शहर में नपा के पास इन अवैध कॉलोनियों का डाटा भी नहीं है। यहां रहने वाले लोगों को बिजली, शुद्ध पानी, पक्की सड़क जैसी कई मूलभूत सुविधाएं नहीं मिल पा रही हैं। इस वजह से लोगों को परेशानियों का हर दिन सामना करना पड़ रहा है। गौरतलब है कि कालोनाइजर्स ने नियमों को दरकिनार कर शहर सहित गांव तक में खेतों में प्लाट काट दिए। इसके कारण गांव के आसपास क्षेत्र में अवैध कॉलोनियां बस गई हैं। इन कॉलोनियों में कुछ लोगों ने मकान भी बना लिए हैं, लेकिन यहां पर मूलभूत सुविधाएं विकसित नहीं हो सकी हैं। कॉलोनियों में आवागमन के लिए सड़क, स्ट्रीट लाइट, पेयजल और गंदे पानी की निकासी के लिए नालियों का निर्माण नहीं कराया है। इससे लोगों को खासी मुश्किलों में रहना पड़ रहा है। वहीं बगैर डायवर्सन के खेत की जमीन पर प्लॉट काटकर बेचने का काम लंबे समय से चल रहा है। यह सब राजस्व विभाग के मैदानी अमले की मिलीभगत के बिना संभव नहीं है। ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधि और अधिकारियों ने भी खेतों में अवैध कॉलोनियां बसाने वाले कालोनाइजर्स के खिलाफ अब तक कोई कार्रवाई नहीं की है। साथ ही महंगे दाम पर प्लॉट बेचकर दाम वसूलने वाले लोग सरकार को राजस्व का नुकसान पहुंचा रहे हैं।
न डायवर्सन और न ही ली अनुमति
कालोनाइजर्स ने सड़क किनारे स्थित खेत पर नियमों को ताक पर रखकर प्लॉट काट दिए। इसके लिए न तो डायवर्सन कराया और न ही संबंधित विभागों से अनुमति ली गई। सबसे बड़ी बात यह है खेती की जमीन का अब तक कॉमर्शियल भी नहीं किया है। इसका खामियाजा अवैध कॉलोनियों में रहने वाले लोगों को उठाना पड़ रहा है।
यहां बसी है खेतों में कॉलोनियां
मालखेड़ी स्टेशन के पास, खिमलासा रोड, देहरी रोड, कुरवाई रोड, हिरनछिपा गांव पर व्यवसायिक दृष्टिकोण से खेतों में कॉलोनियां बस गईं हैं, इनमें मकान दुकान, बड़े-बड़े गोदाम तक बन गए। कई कॉलोनियों में बने घरों में तो व्यवसाय भी संचालित हो रहे हैं, लेकिन प्रशासन का ध्यान इस ओर नहीं है।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned