बेटी को जन्म देने पर बहू को माना पनौती, दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया

बेटी को जन्म देने पर बहू को माना पनौती, दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया
बेटी को जन्म देने पर बहू को माना पनौती, दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया

Samved Jain | Publish: Sep, 01 2019 12:47:10 PM (IST) | Updated: Sep, 01 2019 12:47:11 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

बेटी को जन्म दिया तो बहू को मान लिया पनौती,ससुराल वालों ने उठाया ये शर्मनाक कदम,छतरपुर जिले में सामने आया ससुराल वालों का घिघौना कृत्य

छतरपुर. बेटी को जन्म दिया तो बहू को पनौती मानकर दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया। मानवता को शर्मसार करने वाली यह खबर मध्यप्रदेश के छतरपुर जिले से सामने आई है। दुधमुही बच्ची को लेकर पीडि़त बहू प्रशासन से न्याय की गुहार लगाने भटक रही है और सभी से कह रही है कि इसमें मेरा क्या कसूर..। जिसे भी इस प्रकरण में बारे में पता चला वह ससुराल वालों के इस कृत्य पर थू-थू कर रहा है।

 

बेटे की चाह में तीन हो गईं बेटियां, बहू को माना पनौती
तीसरी बच्ची को जन्म देने के कारण महिला को घर से निकाल दिया गया। तीन बच्चियों को जन्म देने के कारण ससुराल पक्ष इतना खफा हो गया कि उसने बहू सीता साहू को बाहर का रास्ता दिखा दिया। 15 दिन की दुधमुंही बच्ची को लेकर कभी एसपी कार्यालय तो कभी कलेक्टर कार्यालय जाती है। कांग्रेस नेत्री अनवरी खातून के साथ शनिवार को एक बार फिर एसपी ऑफिस पहुंचने के बाद कोई नहीं मिला तो सीएसपी से संपर्क किया गया। उन्होंने महिला को थाने भिजवाकर कार्रवाई का भरोसा दिया है। प्रसूति से पहले भी गर्भवती हालत में ही सीता को घर से बाहर निकाल दिया गया था। बाद में लोगों के हस्तक्षेप से उसे सुरक्षित जगह पर रखकर उनकी डिलेवरी करवाई गई थी।

 

बेटी को जन्म देने पर बहू को माना पनौती, दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया

कांगे्रस नेत्री अनवरी खातून ने बताया कि सागर रोड में रहने वाली सीता साहू पत्नी पुष्पेन्द्र साहू को उसका ससुराल पक्ष दर-दर की ठोकरें खिलाने के लिए बेवस कर रहा है। 15 दिन पहले सीता ने तीसरी बच्ची को जन्म दिया तो पति सहित सास-ससुर व अन्य सदस्यों ने उसे घर से भगा दिया। घरेलू हिंसा की शिकार सीता को न्याय और आसरे की जरूरत है। अनवरी खातून ने इस पूरे घटनाक्रम से आइजी सागर को अवगत कराया। आइजी के निर्देश पर सीएसपी उमेश शुक्ला एसपी ऑफिस आए और उन्होंने महिला की पीड़ा सुनी। महिला सीएसपी के पैर पकड़कर आसरा दिलाने की गुहार लगा रही थी। सीएसपी ने कहा कि महिला का मामला पिछले एक साल से चल रहा है। सिविल लाइन टीआई रहे विनायक शुक्ला ने इसे सुलझाने का प्रयास किया था फिर से थाने भेजकर कार्रवाई करा रहे हैं।



बेटी को जन्म देने पर बहू को माना पनौती, दुधमुंही बच्ची के साथ घर से भगाया

पीडि़त सीता साहू का कहना है कि पूर्व में दो पुत्रियों को जन्म दिया था। एक पुत्री की सही परवरिश नहीं होने से उसकी मौत हो चुकी है। 15 दिन पहले फिर एक बच्ची को जन्म दिया है। सीता के मुताबिक उसके ससुर मानिक लाल, जेठ जगदीश, जेठानी नीतू, पति पुष्पेन्द्र सहित सास और देवर लगातार प्रताडि़त कर रहे हैं। ससुराल वालों ने मुझे ही पनौती मानकर घर से निकाल दिया है, जबकि मैं अभी चलने-फिरने तक की स्थिति में नहीं हूं। मुझे खुद समझ नहीं आ रहा है कि इसमें मेरा क्या कसूर है। अब प्रशासन ने न्याय की उम्मीद है।

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned