बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना में 2 लाख नकद मिलने के बंट रहे फर्जी फॉर्म

बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना में 2 लाख नकद मिलने के बंट रहे फर्जी फॉर्म

Manish Kumar Dubey | Publish: Aug, 12 2018 05:08:07 PM (IST) | Updated: Aug, 12 2018 05:08:08 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

सोशल मीडिया पर योजनाओं की फर्जी व झूठी जानकारी वायरल, पार्षद परेशान

सुकन्या समृद्धि योजना के तहत 10 हजार रुपए का चेक हो रहा वायरल, पढ़े-लिखे लोग भी बन रहे मूर्ख
सागर. सोशल मीडिया पर केंद्र व राज्य सरकार द्वारा संचालित योजनाओं की भ्रामक जानकारी वायरल की जा रही है। योजनाआें में नकद राशि, चैक से राशि मिलने की झूठी जानकारियों ने शहर के पार्षदों को परेशान कर दिया है।
बीते कुछ दिनों से बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ और सुकन्या समृद्धि योजना को लेकर सोशल मीडिया पर अलग-अलग एसएमएस वायरल किए जा रहे हैं, जिन्हें पढ़कर पढ़े-लिखे लोग भी आसानी से मूर्ख बन रहे हैं और पार्षदों के पास इन योजनाओं का लाभ दिलाने की मांग के साथ पहुंच रहे हैं।
लगाम लगनी चाहिए
शासकीय योजनाओं की भ्रामक जानकारी कई तरह से फैलाईं जा रहीं हैं। सोशल मीडिया पर यह घटनाक्रम ज्यादा देखने को मिल रहा है, जिसमें पढ़े-लिखे लोग भी मूर्ख बन रहे हैं। भ्रमजाल फैलने के कारण लोग पार्षदों के पास भी पहुंच रहे हैं। इन भ्रामक संदेशों पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने की कार्रवाई होनी चाहिए।
ये हैं वह झूठी जानकारियां
बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ योजना के तहत एक फॉर्म सोशल मीडिया और कई फर्जी वेबसाइट्स पर उपलब्ध कराया जा रहा है। इस योजना के तहत अफवाह फैलाई जा रही है कि सरकार द्वारा गरीब परिवार की लड़कियों के लिए २ लाख रुपए की नकद राशि मिलेगी। पत्रिका की पड़ताल में यह भ्रामक जानकारी निकली। यह संदेश जैसे ही शहरवासियों तक पहुंच रहा है तो वे अपने पार्षदों से संपर्क कर रहे हैं। कुछ पार्षद योजनाओं को लेकर अपडेट भी नहीं हैं, जिसके कारण यह भ्रामक जानकारी पूरे शहर में फैल रही है।
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना के बारे में
बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ योजना महिला एवं बाल विकास मंत्रालय एवं स्वास्थ्य मंत्रालय और परिवार कल्याण मंत्रालय एवं मानव संसाधन विकास की एक संयुक्त पहल है। इनके प्रयासों के अंतर्गत बालिकाओं को संरक्षण और सशक्त करने के लिए 22 जनवरी 2015 से इसकी शुरुआत की गई है। योजना के तहत पक्षपाती ***** चुनाव की प्रक्रिया का उन्मूलन। बच्चियों की सुरक्षा, शिक्षा जागरुकता, सामाजिक परिवर्तन करना है।
सुकन्या समृद्धि योजना के बारे में
सुकन्या समृद्धि योजना का उद्देश्य बच्चियों की पढ़ाई और उनकी शादी पर आने वाले खर्च को आसानी से पूरा करना है। योजना के तहत बेटी की पढ़ाई व शादी के लिए डाक विभाग में सुकन्या समृद्धि योजना के तहत अकाउंट खुलवाया जा सकता है। अकाउंट में बेटी के नाम से एक साल में 1 हजार से लेकर 1 लाख पचास हजार रुपए तक जमा कर सकते हैं। खाता बेटी के 21 साल की होने पर ही मैच्योर होगा।
सुकन्या समृद्धि योजना के तहत १० हजार रुपए के चैक का फर्जी संदेश घूम रहा है। फर्जी संदेश में कहा गया है कि प्रधानमंत्री की ओर से 1 से 18 वर्ष तक बालिकाओं के लिए 10 हजार रुपए का चैक दिया जा रहा है। इस संदेश में आवेदन की आखिरी तारीख 15 अगस्त बताई गई है, जो की पूरी तरह से भ्रामक जानकारी है।
नरेश यादव
वरिष्ठ पार्षद, नगर निगम

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned