scriptबांदरी के मेहर गांव में दूषित पानी से फैला डायरिया, दो मोहल्लों के 71 बीमार | Patrika News
सागर

बांदरी के मेहर गांव में दूषित पानी से फैला डायरिया, दो मोहल्लों के 71 बीमार

18 महिला-पुरुष और बच्चे जिला अस्पताल पहुंचे, कुछ खुरई-बांदरी के अस्पताल में भर्ती सागर. बांदरी क्षेत्र के मेहर गांव में गुरुवार की सुबह जब लोग सोकर उठे तो एक के बाद एक लोगों को उल्टी दस्त होने लगे। महिला-बच्चों सहित दो मोहल्लों के करीब 65 लोग एक साथ बीमार हुए तो स्वास्थ्य विभाग में हडक़ंपमच […]

सागरJul 05, 2024 / 08:06 pm

नितिन सदाफल

मेहर गांव के मरीज पहुंचने लगे। 10-12 महिला-पुरुष और 6 बच्चों को गंभीर हालात के चलते जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

मेहर गांव के मरीज पहुंचने लगे। 10-12 महिला-पुरुष और 6 बच्चों को गंभीर हालात के चलते जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया।

18 महिला-पुरुष और बच्चे जिला अस्पताल पहुंचे, कुछ खुरई-बांदरी के अस्पताल में भर्ती

सागर. बांदरी क्षेत्र के मेहर गांव में गुरुवार की सुबह जब लोग सोकर उठे तो एक के बाद एक लोगों को उल्टी दस्त होने लगे। महिला-बच्चों सहित दो मोहल्लों के करीब 65 लोग एक साथ बीमार हुए तो स्वास्थ्य विभाग में हडक़ंपमच गया। गांव के लोग बीमारों को लेकर स्थानीय सरकारी अस्पताल और झोलाछाप डॉक्टर्स के यहां लेकर गए। कई गंभीर मरीजों को सागर भेजा गया। सूचना मिलते ही आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग की टीम जरूरी सामग्री लेकर मौके पर पहुंची। प्रारंभिक पूछताछ में पता चला कि बीमार हुए लोगों ने ग्राम पंचायत के सरकारी बोरवेल का पानी पिया था। अधिकारियों के निर्देश पर गांव में पानी की जांच और बीमारियों का सर्वे शुरू हो गया।
अस्पताल में भर्ती मरीजों ने बताया कि वह सालों से ग्राम पंचायत के बोरवेल का पानी पी रहे हैं, लेकिन इस वर्ष बारिश के बाद बोरवेल के पानी में कुछ लोगों को कीड़े दिखे थे। मेहर गांव के दो मोहल्ले के लोग इसी बोरवेल का पानी पीते हैं। गुरुवार की सुबह करीब 8 बजे गांव में एक के बाद एक सूचना मिलने लगी की लोगों को उल्टी व दस्त हो रहे हैं। बीमारों में महिलाएं, बच्चे सहित सभी उम्र के लोग शामिल हैं। बीमार जब सुस्त होने लगे तो परिवार के अन्य लोग उन्हें आसपास की अस्पतालों में लेकर भागे।
बांदरी के सरकारी अस्पताल के आसपास आसपास की क्लीनिकों और झोलाछाप डॉक्टर्स के यहां मेहर गांव के मरीज पहुंचने लगे। 10-12 महिला-पुरुष और 6 बच्चों को गंभीर हालात के चलते जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के बाद अब सभी की हालत में सुधार हो रहा है।
दोपहर में पहुंची टीम रात भर रूकी

जिला प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की टीम दोपहर में गांव पहुंची और जानकारी ली तो पता चला कि गांव के मात्र दो मोहल्लों के लोग बीमार हुए हैं, जो कि ग्राम पंचायत के बोरवेल का पानी दैनिक उपयोग में लेते थे। इसके अलावा पास के ही तालाब में मछली पकडकऱ खाने की बात भी सामने आ रही है। प्रशासन ने तालाब और बोरवेल के पानी इस्तेमाल पर रोक लगा दी और अन्य वैकल्पिक व्यवस्थाएं कीं। दोपहर से देर रात तक स्वास्थ्य विभाग की टीम मरीजों की जांच करती रही। वहीं मलेरिया अधिकारी शुक्रवार को सर्वे करने जाएंगे।
सूचना पर तत्काल टीम लेकर मैहर गांव पहुंची थी। स्थानीय अस्पताल में 65 मरीजों को देखा था और 3 रेफर किया। कुछ लोग पहले ही जिला अस्पताल पहुंच गए थे। जिला अस्पताल में भी मरीजों को देखा है। अब मैहर गांव का सर्वे करा रही हूं। रात में स्वास्थ्य विभाग की टीम गांव में रूकी हुई है। बांदरी के अस्पताल में भी व्यवस्थाएं की गईं हैं। शुक्रवार को मलेरिया की टीम भी गांव जाएगी। पीएचई पानी की जांच कर रहे हैं।
डॉ. ममता तिमोरी, सीएमएचओ सागर

Hindi News/ Sagar / बांदरी के मेहर गांव में दूषित पानी से फैला डायरिया, दो मोहल्लों के 71 बीमार

ट्रेंडिंग वीडियो