बिजली चोरी पकड़ी तो लडऩे लगा पूरा परिवार, अधिकारी से अभद्रता, कर्मचारी की बाइक में मारी लात

शनि मंदिर के पास जांच में मीटर में मिली बिल से 3100 ज्यादा यूनिट की खपत, मीटर रीडर नहीं ले पाता था रीडिंग, घर में एसी, पानी मोटर सहित कई बिजली उपकरण, फिर भी बिल आया था 86 रुपए

सागर. शहर में बिजली चोरी करने वालों के हौसले इतने बुलंद है कि वह किसी भी हद तक जाने तैयार हैं। सोमवार को सदर क्षेत्र में कुछ एेसा ही घटनाक्रम हुआ, जहां चैकिंग के दौरान जैसे ही अमले ने बिजली चोरी पकड़ी तो उपभोक्ता के पूरे परिवार ने विवाद करना शुरू कर दिया। शनि मंदिर के पास स्थित अनिल चौकसे के परिजनों ने अधिकारियों के साथ अभद्रता की और कंपनी के कर्मचारी की बाइक में लात मार दी। नौबत यहां तक बन गई कि चौकसे ने वह मीटर भी अधिकारियों को नहीं दिया, जिसमें छेद करके बिजली चोरी की जा रही थी। विवाद बढ़ता देख कंपनी का अमला वहां से निकल आया और चौकसे परिवार के खिलाफ पुलिस थाने में शिकायत की है।

बिल और मीटर की रीडिंग में 3100 का अंतर
बिजली कंपनी के सहायक अभियंता अशोक सोलंकी ने बताया कि उनकी टीम सदर क्षेत्र में चैकिंग कर रही थी। इसी दौरान शनि मंदिर के पास अनिल चौकसे के घर पहुंचे और जांच की तो पता चला कि बिल पर जो यूनिट दर्शाई गई है उससे करीब 3100 यूनिट अधिक खपत मीटर में दर्ज हो चुकी है। जानकारी ली तो पता चला कि चौकसे मीटर रीडर को रीडिंग ही नहीं लेने देते थे। जांच आगे बड़ी और मीटर को चेक किया तो उसमें भी छेद मिला। कंपनी ने पुराना मीटर निकालकर तो नया मीटर लगा दिया, लेकिन चौकसे ने पुराना मीटर देने से इनकार कर दिया और पंचनामा पर भी हस्ताक्षर नहीं किए।

93 यूनिट आई थी खपत
बिजली कंपनी के अनुसार चौकसे के घर में जांच में एसी, पानी की मोटर, कूलर, पंखा, फ्रिज सहित कई अन्य बिजली उपकरण मिले हैं। जिसका लोड करीब पांच किलो वाट आंका गया है, लेकिन चौकसे ने जो कनेक्शन लिया है वह ढाई-तीन सौ वाट का है। अक्टूबर माह में 93 यूनिट खपत आने को लेकर अधिकारियों को चोरी की आशंका थी और जांच में उसकी पुष्टि भी हो गई।

डेढ़ लाख तक जा सकती है रिकवरी
कंपनी के अधिकारियों ने बिल और मीटर में मिले अंतर के बाद 30 हजार रुपए के आसपास का बिल तो तत्काली ही थमा दिया है। इसके बाद यह माना जा रहा है कि पांच किलो वाट के हिसाब से यदि आंकलन किया गया तो डेढ़ लाख रुपए तक की रिकवरी निकल सकती है। अधिकारियों का कहना है कि यदि यह 30 हजार रुपए दो चार दिन में जमा नहीं किए तो अब कनेक्शन काटने की कार्रवाई की जाएगी।

मदन गोपाल तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned