करीब पंद्रह दिन से नहीं आए डॉक्टर, मालखेड़ी जंक्शन पर एक स्वास्थ्य कर्मचारी के भरोसे यात्रियों की जांच

मनमर्जी से किया जा रहा काम

By: anuj hazari

Published: 14 Jul 2020, 09:00 AM IST

बीना. मालखेड़ी जंक्शन पर लॉकडाउन के बाद से केवल एक ट्रेन का स्टॉपेज है, जिससे आने व जाने वाले यात्रियों के मेडिकल चैकअप की जिम्मेदारी जिस डॉक्टर के लिए दी गई है वह डॉक्टर करीब पंद्रह दिनों से ड्यूटी पर नहीं आए हैं और केवल एक कर्मचारी जाकर दर्जनों यात्रियों की जांच, जानकारी आदि एकत्रित कर रहा है। दरअसल कोविड-19 के कारण सुरक्षा की दृष्टि से प्रशासन ने रेलवे स्टेशन पर डॉक्टरों को स्टाफ के साथ ड्यूटी लगाई है, जिससे ट्रेन से आने-जाने वाले यात्रियों की जांच का जिम्मा सौंपा है। मालखेड़ी जंक्शन से वर्तमान में केवल गोंडवाना एक्सप्रेस ही निकल रही है, लेकिन इससे आने-जाने वाले यात्रियों की जांच के लिए जिन डॉक्टर की ड्यूटी लगी है वह नहीं पहुंच रहे हंै। सूत्रों ने बताया कि करीब पंद्रह दिन से भी ज्यादा दिनों से केवल एक कर्मचारी ही आता है जो यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग व उनकी पूरी जानकारी रजिस्टर में नोट करता है। जिस पर अतिरिक्त भार रहता है। प्रतिदिन जबलपुर से आने वाली गोंडवाना एक्सप्रेस का समय रात 8.20 का है जहां पर करीब डेढ़ घंटे पहले पहुंचकर यात्रियों की जांच करनी पड़ती है। यहां कर्मचारी अकेला रहता है और काम ज्यादा रहता है इसलिए कभी-कभी जल्दबाजी में भी काम करना पड़ता है, जिसमें जांच भी ठीक ढंग से नहीं कर पाते है न ही उनसे बीमार होने के संबंध में जानकारी जुटा पाते है।
रात ढाई बजे फिर आना पड़ता है स्टेशन
डाउन गोंडवाना एक्सप्रेस ह. निजामुद्दीन से रात ढाई बजे वापस आती है, जिनसे यात्रा करने वाले यात्रियों की जांच के लिए इसी कर्मचारी को रात में फिर वापस आना पड़ता है, लेकिन डॉक्टर का ड्यूटी पर कई दिनों से न आने से इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि किस तरह से सरकारी महकमें कोविड-19 के बाद भी लापरवाही बरती जा रही है।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned