कुंभकर्णी नींद सो रहा शिक्षा विभाग, 5 माह बाद भी नहीं बांट पाया साइकल

कुंभकर्णी नींद सो रहा शिक्षा विभाग, 5 माह बाद भी नहीं बांट पाया साइकल

Nitin Sadaphal | Publish: Oct, 14 2018 12:21:49 PM (IST) | Updated: Oct, 14 2018 12:21:50 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

शासन स्तर से नहीं आया सामान

सागर. कुछ कर दिखाने का सपना आंखों में संजोए वर्षा हर दिन स्कूल पहुंचने के लिए ५ किमी पैदल रास्ता तय कर रही हैं। स्कूल का समय सुबह 11 बजे से है लेकिन ये 9.30 बजे ही घर से निकलती हैं। दरअसल स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा सही समय स्कूल पहुंचने के लिए हर साल विद्यार्थियों को साइकल बांटी जाती है, लेकिन हकीकत चौका देने वाली है। शासन की योजना में हो रही देरी के चलते संभाग के हजारों विद्यार्थी परेशान हैं। पैदल स्कूल पहुंचना विद्यार्थियों की बड़ी परेशानी बन गई है। संभाग में नया सत्र खुले हुए 5 माह बीतने को है लेकिन जिले में साइकल का सामान नहीं पहुंचा है। जिसमें सागर जिले के ही लगभग 23 हजार विद्यार्थियों को साइकल मिलनी है, इसमें क क्षा 9 वीं के 17 हजार और कक्षा 6 वीं के 6 हजार विद्यार्थी शामिल हैं। इन विद्यार्थियों का भी अभी सत्यापन किया जा रहा है। इसमें कुछ अपात्र ही हो सकते हैं। इस सत्र में करीब 60 हजार विद्यार्थियों के लिए साइकल मिलनी है। मामले में अब संभाग के कक्षा छठवीं और नवमीं में पढऩे वाले करीब 50 हजार छात्र-छात्राओं का सत्यापन किया जा रहा है।

जिलों में नहीं पहुंचा सामान
शासन द्वारा पिछले दो वर्षों से विद्यार्थियों को साइकल दी जाती है। भोपाल से साइकल बनाने के लिए सामान जिलों में भेजा जाता है, लेकिन अब तक यह सामान जिलों में नहीं पहुंचा है। इस वर्ष 1 अप्रैल से सरकारी स्कूल खुल चुके हैं। पांच महीने बाद स्कूलों में पढऩे वाले छात्र-छात्राओं को बांटने के लिए साइकल तो नहीं आई, साइकल बांटने का फरमान जरूर आया है। मामले में अब संभाग के कक्षा छठवीं और नवमीं में पढऩे वाले करीब 50 हजार छात्र-छात्राओं का सत्यापन किया जा रहा है।

साइकल के लिए कंपनी से शासन स्तर पर ऑर्डर हो गए हैं। जैसे-जैसे जिलों में पहुंचेंगी वितरण शुरू हो जाएगा। इस माह सामान पहुंच जाएगा।
आरएन शुक्ला, संयुक्त संचालक शिक्षा विभाग

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned