जनसुनवाई में जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री ने शिकायत करने पहुंचे किसान को पीटा

घटिया नहर के रिसाव से खेतों में पानी भरने से परेशान किसान को सिंचाई विभाग के ईई ने पीटा

By: Samved Jain

Published: 03 Dec 2019, 05:18 PM IST

सागर. जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री कार्यालय में किसान से मारपीट के मामले में पुलिस ने दोनों पक्षों से आवेदन लिए हैं। किसान नहर से पानी रिसने के कारण बोवनी नहीं कर पा रहे हैं। कई बार शिकायत पर भी जल संसाधन विभाग द्वारा नहरों की मरम्मत नहीं की गई। मंगलवार को जनसुनवाई में शिकायत के बाद किसान आवेदन देने पहुंचे थे।

केसली थाना अंतर्गत ग्राम पलोह स्थित डैम में जल संसाधन विभाग 3 साल में भी 25 करोड़ रुपए की लागत से लगभग 18 किलोमीटर में नहरों का काम पूरा नहीं करा पाया है। पानी रिसने के कारण किसानों के खेतों में भरा रहता है और इस वजह से सूरजपुर - पलोह गांव के दो दर्जन से ज्यादा किसान बड़े रकबे में बोवनी भी नहीं कर पाते। इस कारण किसानों में विभाग के प्रति आक्रोश बढ़ता जा रहा है।

मंगलवार को जनसुनवाई में कलेक्टर को आवेदन देने के बाद किसान जल संसाधन विभाग के कार्यपालन यंत्री प्रेमनारायण तिवारी को आवेदन देने पहुंचे थे। इस बीच उनसे कहासुनी हो गई। बताया जाता है कि दोनों पक्षों में हाथापाई के बाद जल संसाधन विभाग के कर्मचारियों ने कार्यालय में किसान और उसके साथी के साथ मारपीट की कर उन्हें पुलिस को सुपुर्द कर दिया। सरकारी विभाग में किसान के साथ मारपीट के मामले कि भनक लगने पर एसपी अमित सांघी ने गोपालगंज थाना पुलिस को जांच के आदेश दिए हैं। पुलिस ने घायल किसान और कार्यपालन यंत्री का मेडिकल परीक्षण कराया है।

गोपालगंज थाना प्रभारी एनपी दायमा का कहना है कि मामले की जांच शुरू कर दी गई है। जो भी सच सामने आता है उसके आधार पर अगली कार्रवाई की जाएगी। भैंसावाही गांव के मोहन सिंह लोधी का कहना है कि वह आवेदन करने गए थे, लेकिन उनके साथ मारपीट कर दी गई। कार्रवाई होना चाहिए। न्याय की उम्मीद है। ईई जल संसाधन विभाग सागर प्रेमनारायण तिवारी का कहना है कि जांच में सब क्लीयर हो जाएगा। आरोप निराधार है।

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned