मरने के बाद आधे घंटे के लिए जीवित हुआ वृद्ध,बोला रुको अभी...

सागर के बीना में सामने आया सनसनीखेज मामला, पोस्टमॉर्टम कक्ष में उठ खड़ा हुआ मृतक, अचंभित हुए परिजन, डॉक्टर ने कर दिया था मृत घोषित, पुलिस ने पोस्टमॉर्टम को भेज दिया था शव

By: Samved Jain

Updated: 21 Jun 2019, 03:17 PM IST

सागर. सिविल अस्पताल बीना में भर्ती एक मरीज 10 घंटे मौत की नींद सोने के बाद आधा घंटे के लिए जीवित हो गया। मरे हुए वृद्ध को जिंदा देख सभी हैरत में रह गए। यह तब हुआ जब उसके मृत शरीर को पोस्टमॉर्टम के लिए ले जाने पुलिस पहुंची। स्ट्रेचर पर रखते हुए वृद्ध की बॉडी में हरकत हुए और वृद्ध रोते हुए बोला रुको अभी, कहां ले जा रहे हो।

 

बीना अस्पताल में मर चुके वृद्ध के अचानक जिंदा होने की खबर के बाद हड़कंप मच गया। 5 मिनटमें ही पूरे अस्तपाल में यह खबर फैल गई। लोग वृद्ध हो देखने पहुंचने लगे। इधर अस्पताल प्रबंधन भी वृद्ध के शरीर में हरकत होने के बाद पुन: उपचार में जुट गया। वृद्ध को तत्काल ही दोबारा वॉटल चढ़ाई गई। इस दौरान उसने बोलना भी शुरू कर दिया था।

 

elderly alive  <a href=After death in sagar " src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/06/21/photo6082657754499098905_4737605-m.jpg">

...और जिंदा खड़ा हो गया वृद्ध, ये है पूरा मामला
बताया गया है कि छतरपुर जिले के नौगांव निवासी 72 वर्षीय वृद्ध किशन पिता काशीराम सोनी को 14 जून को लावारिस हाल में पड़े मिलने के बाद किसी व्यक्ति द्वारा बीना अस्पताल में भर्ती कराया गया था। जहां उसके साथ कोई नहीं होने की स्थिति में एक अलग वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था। गुरुवार की रात स्टाफ से जानकारी मिलने के बाद ड्यूटी डॉक्टर अविनाश सक्सेना किशन को देखने पहुंचे थे। जहां डॉक्टर ने चेक करने के बाद किशन को मृत घोषित कर दिया था। साथ ही रात करीब 9 बजे किशन के मरने का मेमो पुलिस को भी भेजा गया था। इधर किशन की मौत के बाद वार्ड में ही उसके शव को रखा गया था। वहीं बाहर से बंद कर दिया गया था।

 

elderly alive after death in sagar

पोस्टमॉर्टम के पहले किशन हो उठा जीवित
रात में किशन के मरने का मेमो मिलने के बाद बीना थाना पुलिस सुबह 9 बजे के बाद अस्पताल पहुंची। थाना प्रभारी अनिल मौर्य भी मौके पर पहुंचे। यहां पुलिस ने शव को उठाने के लिए जैसे ही लोगों से कहा तो वृद्ध के शरीर में हरकत होती नजर आई। जिससे सभी हैरत में रह गए। कुछ लोग तो डर भी गए। अचानक से मृतक जीवित हो गया। उसके हाथ-पैर चलने लगे और वह रोने भी लगा। पूछा भी कहां ले जा रहे हो, अभी रुको। इतना सब होने के बाद सभी आश्चर्य में पड़ गए। तत्काल ही डॉक्टर्स को सूचना भेजी गई। नर्सिंग स्टाफ ने वृद्ध का दोबारा से उपचार भी शुरू कर दिया। आधा घंटे तक उपचार भी हुआ।

 

elderly alive after death in sagar

फिर थंम गईं सांसे, पोस्टमॉर्टम भी हुआ
वृद्ध किशन मरने के बाद भी जीवित हो चुका था। उसके साथ कोई परिजन तो नहीं था, जो खुशियां मनाकर ईश्वर का धन्यवाद दे सकें, लेकिन जिसे भी पता चला वह भगवान को शुक्रिया करता नजर आया। हालांकि, करीब आधा घंटे बाद किशन ने फिर दम तोड़ दिया। इस बार किस्मत ने भी उसका साथ नहीं दिया। दोबारा मृत घोषित होने के बाद पुलिस ने शव का पोस्टमॉर्टम कराया है। साथ ही मर्ग कायम किया है। मृतक के शव को भी लेने फिलहाल कोई नहीं पहुंचा है।

 

elderly alive after death in sagar

लापरवाही या कुदरत का खेल
नाइट् ड्यूटी रहने के कारण डॉ. अविनाश सक्सेना दिन में आराम लेते रहे। जिस कारण से उनसे विस्तृत चर्चा नहीं हो सकी है। मरने के बाद भी जीवित होने और दोबारा मरने के मामले पहले भी अनेक बार चुके है और बाद में ऐसे अधिकांश मामलों में दोबारा मौत ही हाथ लगी है। जिसका कोई वैज्ञानिक कारण बताया गया है। यह मामला लापरवाही की श्रेणी में भी आ सकता है, लेकिन रात और सुबह तक भी वृद्ध के शरीर में कोई हरकत नहीं होने की बात बताई जा रही है। क्योंकि, जिस हाल में रात में शव रखा गया था, वैसे ही मिला था। मौत के 10 घंटे बाद अचानक आधा घंटे के लिए वृद्ध के जीवित होने की खबर जिसे भी लगी, जानकारी जुटाता नजर आया।

Show More
Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned