7 सितंबर तक मतदाता सूची के लिए करें दावे-आपत्तियां, एक सप्ताह बढ़ी तिथि

7 सितंबर तक मतदाता सूची के लिए करें दावे-आपत्तियां, एक सप्ताह बढ़ी तिथि

manish Dubesy | Publish: Sep, 02 2018 05:34:39 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

मीडिया सर्टिफिकेशन मॉनीटरिंग समिति की बैठक

सागर. मतदाता सूची में नाम जुड़वाने व हटाने के लिए दावे-आपत्तियां अब ७ सितंबर तक दे सकते है। पहले यह तिथि 31 अगस्त थी। बताया जा रहा है कि अब तक जिले की आठों विधानसभा क्षेत्रों से करीब 40 हजार दावे-आपत्तियां आई हैं। कलेक्टर व जिला निर्वाचन अधिकारी आलोक कुमार सिंह शनिवार को मीडिया सर्टिफिकेशन मॉनीटरिंग समिति (एमसीएमसी) की बैठक को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि चुनाव की तैयारियां की जा रही हैं। इस बार दिव्यांग मतदाताओं का विशेष ध्यान रखा जाएगा। कहा कि भारत निर्वाचन आयोग के निर्देशों के तहत एमसीएमसी कमेटी का गठन किया गया है जो पेड न्यूज पर कार्रवाई करेगी। एसपी सत्येंद्र कुमार शुक्ला कहा कि जिले में करीब २५ प्रतिशत बूथ बढ़ गए हैं। अपर कलेक्टर तन्वी हुड्डा, सभी एसडीएम व समिति सदस्य इस दौरान रहे।
वीवीपैट का प्रदर्शन
आगामी विधानसभा चुनाव 2018 में मतदान इव्हीएम मशीन द्वारा किया जाएगा। वीवीपैट मशीन भी रहेगी। वीवीपेट में मतदाता अपना डाला हुआ मत सात सेंकण्ड तक देख सकेगा। इसके बाद प्रत्याशी के नाम की पर्ची वीवीपेट मशीन के बॉक्स में कटकर गिर जाती है। शनिवार को कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी आलोक कुमार सिंह एवं सभी विभाग के अधिकारियों एवं कर्मचारियों के समक्ष वीवीपैट मशीन का प्रदर्शन किया गया। स्वयं कलेक्टर ने भी इव्हीएम का प्रयोग कर वीवीपेट मशीन में अपना मत पर्ची का अवलोकन किया।
बैठक आयोजित
आगामी विधानसभा चुनाव के लिए कलेक्टर सभाकक्ष में राजस्व व पुलिस अधिकारियों की बैठक की गई। एसपी सत्येन्द्र कुमार शुक्ला, अपर कलेक्टर सुश्री तन्वी हुड्डा। सभी एसडीएम एसडीओपी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, थाना प्रभारी सहित अन्य अधिकारी इस दौरान मौजूद रहे।


कलेक्टर ने कहा कि चुनाव के दौरान सुरक्षा व्यवस्था एवं अनुकूल वातावरण निर्मित होने से निश्चित तोर पर मतदान शांतिपूर्ण होगा, वहीं मतदान के प्रतिशत में भी बढ़ोत्तरी होगी। उन्होनें कहा कि मतदान के लिए शांत माहौल एवं कानून व्यवस्था बनाये रखने की अहत जिम्मेदारी पुलिस विभाग की होगी। कलेक्टर श्री सिंह ने सिक्योरिटी प्लान पर चर्चा करते हुए कहा कि मतदान केन्द्र में तैनात कर्मचारी एवं पुलिस बल यदि जागरूक एवं निर्भीक है तो चुनाव आसानी से कराये जा सकते हैं। चुनाव प्रक्रिया के दौरान पुलिस और प्रशासन पर मीडिया, राजनैतिक दल, आयोग, प्रेक्षक, जनता आदि सभी की निगाह रहती है। इसलिए अधिक मुस्तैदी से पुलिस को अपने कर्तव्यों का निर्वाह करना होगा। विवाद की स्थिति उत्पन्न होने अथवा शिकायतें मिलने पर तत्परता पूर्वक उसका निराकरण करना होगा। सभी सजग होकर अपने दायित्वों को निर्वाह के लिए तैयार रहे।
कलेक्टर ने सभी एसडीएम एवं एसडीओपी से कहा कि संयुक्त रूप से अपने-अपने क्षेत्रों के मतदान केन्द्रों को निरीक्षण कर लें। साथ ही यह भी देखे कि भवन में रैम्प बने हैं या नहीं मतदान केन्द्रों पर सभी व्यवस्थाएँ सुनिश्चित रहे, होने वाली आम सभा के लिए अभी से मैदानों को चिन्हित किया जाये।

 

 

 

Ad Block is Banned