चरनोई भूमि पर अतिक्रमण, चारागाह बनाने नहीं मिल रही जगह

हर पंचायत में एक हेक्टेयर जगह में बनाया जाना है चारागाह

By: sachendra tiwari

Published: 16 Dec 2020, 09:16 PM IST

बीना. हर ग्राम पंचायत में जनपद पंचायत द्वारा चारागाह बनाया जाना है और यह चारागाह चरनोई भूमि में बनाया जाएगा, लेकिन अतिक्रमण के चलते पंचायतों में चरनोई भूमि मिल ही नहीं रही है। चरनोई जमीन पर लोग कब्जा कर खेती कर रहे हैं। जमीन दिलाने के लिए सीइओ द्वारा तहसीलदार के लिए पत्र भेजा गया है।
मवेशियों को चराने के लिए हर गांव में चरनोई जमीन रहती है, लेकिन उसपर कब्जा हो जाने के कारण पशुपालक परेशान हैं। अब पशुपालकों की सुविधा के लिए शासन द्वारा हर पंचायत में एक हेक्टेयर जमीन में चारागाह बनाए जाने हैं, जिसकी लागत 7 लाख रुपए है और इसका कार्य मनरेगा से होगा। यह चारागाह चरनोई जगह पर बनेंगे, लेकिन पंचायतों में जगह ही नहीं मिल रही है। जबकि तहसील में चरनोई जमीन 3 हजार 635.530 हेक्टेयर है। यदि रिकॉर्ड में दर्ज जमीन पूरी तरह खाली हो जाए तो एक हेक्टेयर से भी ज्यादा जगह में चारागाह बनाए जा सकते हैं। इस संबंध में सीइओ आशीष जोशी ने बताया कि जमीन उपलब्ध कराने के लिए तहसीलदार को पत्र लिखा गया है, क्योंकि पंचायतों में जमीन नहीं मिल रही है। जमीन मिलते ही चारागाह बनाने का काम शुरू कर दिया जाएगा। गौरतलब है कि चरनोई जगह न होने के कारण अवारा मवेशी फसलों को नुकसान पहुंंचा रहे हैं और किसान फसलों को बचाने के लिए मवेशी को शहर में छोड़कर जा रहे हैं, जिससे सड़कों पर वाहन चालकों का निकलना मुश्किल हो जाता है।
भानगढ़ क्षेत्र में सबसे ज्यादा चरनोई जमीन
तसहील के भानगढ़ क्षेत्र में चरनोई जगह सबसे ज्यादा है। क्षेत्र के अलग-अलग गांव में कुल 1 हजार 875 हेक्टेयर जमीन है। इसके साथ ही मंडीबामोरा क्षेत्र में 868 हेक्टेयर जमीन, बीना क्षेत्र में 891 हेक्टेयर चरनोई जमीन है। चरनोई जमीन का रकबा इतना ज्यादा है कि चारागाह की गौशालाएं भी आसानी से बनाई जा सकती हैं। इसके बाद भी जमीन खाली नहीं कराई जा रही है।
कब्जा मुक्त कराएंगे जमीन
अभी चरनोई जगह उपलब्ध कराने संबंधी पत्र नहीं मिला है। हर गांव में चरनोई जगह है और यदि वहां कब्जा है उसे हटवाकर जमीन चारागाह के लिए चिंहित कराई जाएगी।
संजय जैन, तहसीलदार, बीना

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned