विलो टेंडर लेने के बाद भी नहीं किया डामरीकरण तो वार्डवासियों ने दी आंदोलन की चेतावनी

वार्डवासियों ने एसडीएम से शिकायत कर की काम कराने की मांग की

By: anuj hazari

Published: 22 Jun 2020, 09:15 AM IST

बीना. शहर में विकास कार्य नहीं होने के पीछे सबसे बड़ा कारण है ठेकेदारों की उदासीनता जो जल्दबाजी कर विलो रेट में टेंडर तो ले लेते हैं, लेकिन जब काम कराने की बात आती है तो उन्हें घाटा दिखने लगता है और काम नहीं करते हैं। इसलिए जरूरी है कि नपा अधिकारी ऐसे ठेकेदारों को ब्लैक लिस्ट कर दोबारा काम न दे। करीब एक वर्ष पहले मेकलसुता कंपनी ने वीरसावरकर वार्ड से खुरई रोड तक डामरीकरण करने का टेंडर साढ़े १२ प्रतिशत विलो में लिया था, लेकिन यहां पर आज तक ठेकेदार ने काम शुरू नहीं किया है। क्योंकि ठेकेदार को काम में घाटा दिखाई दे रहा है। इसकी शिकायत वार्डवासियों ने एसडीएम अमृता गर्ग से की है। वीरसावरकर वार्ड की सड़क शहर के अंदर बायपास रोड के रूप में बनी है, जिससे दिनभर सैकड़ों लोगों का आना-जाना रहता है। ठेकेदार द्वारा काम नहीं करने पर अंतिम सूचना सहित तीन नोटिस दिए जा चुके हैं फिर भी काम नहीं किया जा रहा है, जिससे लोग परेशान हैं। कुछ हिस्से को छोड़कर पूरी सड़क उखड़ गई है। लोगों ने जल्द से जल्द सड़क पर डामरीकरण का काम कराने की मांग की है और काम न करने पर वार्ड के लोगों ने आंदोलन करने की चेतावनी दी है। ज्ञापन सौंपने वालों में पूर्व पार्षद बलराम राय, सुनीता राय, भूपेन्द्र राय, मधुसूदन यादव, बबलू अरोरा, बादल राजपूत, आराधना जैन, अजय जैन, अभिषेक जैन, मुनब्बर खान, संतोष जयसवाल, वेद व्यास, सुनील सेन, देवकांत तिवारी सहित अन्य लोग शामिल है।
बड़ी बजरिया में भी यही हाल
गौरतलब है कि इसी कंपनी द्वारा बड़ी बजरिया में डामरीकरण का काम लिया था लेकिन विलो टेंडर लेने के बाद ठेकेदार ने काम नहीं किया और गड्ढे खोदकर डाल दिए है जहां पर लोग परेशान हो रहे हैं।

anuj hazari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned