कर्ज के बोझ से परेशान फिर एक किसान ने की आत्महत्या, पेड़ से लटका मिला कंकाल

फांसी के फंदे पर 10 दिन से लटका मिला था कंकाल!

By: Faiz

Published: 17 Oct 2020, 10:28 PM IST

सागर/ मध्य प्रदेश में उपचुनाव की धूम के बीच एक और किसान ने कर्ज के बोझ में दबकर मौत को गले लगा लिया। मामला सूबे के सागर जिले के कुमेरिया गांव का है, जहां ग्रामीणों को जंगल में एक नर कंकाल पेड़ पर फांसी के फंदे पर झूलता मिला। पुलिस जांच में सामने आया कि, शव कर्ज के बोझ से परेशान किसान का है, जो दस दिनों से घर से लापता था। हालांकि, किसान की मौत का कारण और फांसी लगाने के समय की स्पष्ट जानकारी पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने पर ही पता लग सकेगी, लेकिन पुलिस का कहना है कि, शव को देखते हुए अनुमान लगाया जा सकता है कि, किसान द्वारा फांसी 10 दिन पहले ही लगाई होगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- कांग्रेस प्रत्याशी के प्रचार में जा रही कार ने 10 साल के बच्चे को कुचला, मौत


बढ़ते कर्ज से परेशान था किसान

जानकारी के अनुसार किसान की फसल पिछले दो सालों से खराब हो रही थी। यही वजह थी कि, उसे अगली फसल के लिए लगातार कर्ज लेना पड़ रहा था। पिछले कुछ दिनों से कर्ज देने वाले भी उससे पैसा मांग रहे थे, जिससे परेशान आकर वो अवसाद का शिकार हो गया था और अचानक दस दिन पहले घर से कहीं चला गया। पुलिस का मानना है कि, पहली नजर में तो मामला आत्महत्या का ही प्रतीत हो रहा है, लेकिन फिर भी हर पहलू की बारीकी से जांच की जाएगी।

 

पढ़ें ये खास खबर- मानवता शर्मसार : छोटे भाइयों ने तलाकशुदा बहन से किया गैंगरेप, माता-पिता भी थे खौफनाक साजिश में शामिल!


दस दिनों से लापता था किसान

मृतक किसान के भाई ने बताया कि, उसका बड़ा भाई दस दिनों पहले अचानक घर से चला गया था। पहले तो परिवार द्वारा गांव और उसके आस-पास उसकी तलाश की गई, बाद में इस संबंध में पुलिस में गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई गई थी, पुलिस द्वारा भी उसे ढूंढा जा रहा था, लेकिन कहीं भी उसका पता नहीं चल पा रहा था। मामला पूरे गांव को पता चल गया था, तो सभी मिलकर भाई को ढूंढ रहे थे। इसी के चलते कुछ लोग जंगल की ओर गए, जहां एक पेड़ पर किसान का शव झूलता हुआ मिला। ग्रामीणों ने तुरंत पुलिस को सूचना दी। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक, किसान का शव कंकाल नुमा होकर पेड़ से लटका हुआ था। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करा कर परिजन को सौंप दिया है।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned