धर्मकांटा शुरू होने से किसानों को राहत, तुलाई के लिए नहीं करना पड़ता है घंटों इंतजार

इलेक्ट्रिक कांटा पर तुलाई से होते थे विवाद

By: anuj hazari

Published: 24 Jun 2020, 09:15 AM IST

बीना. कृषि उपज मंडी में किसानों को अनाज की डाक होने के बाद उसकी तुलाई के लिए घंटों इंतजार करना पड़ता था। इसके बाद मंडी में धर्मकांटा से तुलाई शुरू की गई है, जिसके बाद किसानों की कम समय में ही तुलाई हो जाती है और मंडी में भी ट्रैक्टर-ट्रॉली से जाम की स्थिति नहीं होती है। गौरतलब है कि कृषि मंडी में कई गांव और दूसरे शहरों के भी किसान अच्छे भाव मिलने पर अनाज बेचने के लिए आते है। यहां पर अभी तक केवल व्यापारी की दुकान पर ही इलेक्ट्रिक कांटे से अनाज की तुलाई की जाती थी, जिसमें उन्हें घंटों इंतजार करना पड़ता था। इसके बाद उन्हें अनाज का पेमेंट मिलता था, लेकिन अब धर्मकांटा पर तुलाई होने से किसानों को इसमें ज्यादा वक्त जाया नहीं करना पड़ता है।
कई दिनों तक करना पड़ता था डाक का इंतजार
सीजन के समय पर यहां पर किसानों को कई दिन तक मंडी में ही डाक होने का इंतजार करना पड़ता था, क्योंकि तुलाई में समय लगने के कारण यहां पर ट्रैक्टर-ट्रॉली खड़ी रहती थी और हमेशा ही भीड़भाड़ की स्थिति रहती थी, लेकिन इस वर्ष धर्मकांटा शुरू होने से किसान कुछ ही समय में अनाज बेचकर घर चले जाते है।
इलेक्ट्रिक कांटा पर तुलाई से होते थे विवाद
मंडी में व्यापारी इलेक्ट्रिक कांटे से तुलाई करते थे, जिमसें किसानों का अनाज ज्यादा तोलने की शिकायतें भी आती थी। कई बार एसडीएम, तहसीलदार को भी यहां पर विवाद सुलझाने के लिए आना पड़ता था। ऐसा करने वाले व्यापारियों के कांटे भी जब्त किए गए थे।
बीओटी स्कीम से हुआ शुरू
मंडी में धर्मकांटा बीओटी स्कीम के तहत शुरू हुआ है, जिसे लगाने वाले व्यापारी को उसकी पूरी रकम अदा होने तक वह तुलाई का भुगतान किया जाता है। इसके बाद पूरी रकम अदा होने पर यह धर्मकांटा मंडी के अधीन हो जाएगा।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned