मजबूर मजदूरों के चेहरे पर घर आने की खुशी से ज्यादा दूसरे राज्य में फंसे होने का दिखा डर

करीब आठ सौ से ज्यादा यात्रियों को लेकर पहुंची श्रमिक स्पेशल ट्रेन

By: anuj hazari

Updated: 16 May 2020, 09:04 PM IST

बीना. रेलवे स्टेशन पर लंबे समय बाद यात्रियों की भीड़ दिखाई दी, लेकिन यह यात्री नियमित ट्रेन के नहीं बल्कि श्रमिक स्पेशल से आए दूसरे राज्यों में फंसे मजबूर मजदूर थे, जिन्हें उतारकर प्रशासन ने बसों से उनके घर पहुंचाया। शनिवार सुबह तड़के 4.27 बजे सरहिंद से चलकर कटनी जाने वाली श्रमिक स्पेशल ट्रेन स्टेशन पहुंची, जिससे शुक्रवार को जारी किए गए आदेश में 127 यात्रियों की बजाए बच्चों सहित करीब आठ सौ से ज्यादा यात्री स्टेशन पहुंचे। जबकि लिस्ट में 570 लोगों के नाम थे, जिसमें बच्चों के नाम शामिल नहीं थे। जिन्हें स्टेशन से एक-एक करके बाहर निकाला गया और करीब चार घंटे बाद उन्हें बसों से उनके घरों के लिए रवाना किया गया। ट्रेन के हर कोच के बाहर एक शिक्षक पटवारी व पुलिस की ड्यूटी लगाई गई थी जो इनकी काउंटिंग, सोशल डिस्टेंस का पालन कराने के लिए लगे थे। जैसे ही ट्रेन आने का अनाउंसमेंट हुआ प्रशासन अलर्ट हो गया। 24 कोच की ट्रेन की हर बोगी को अलटरनेट तरीके से खोला गया। ताकि एक जगह भीड़ जमा न हो। इसके बाद डॉक्टरों की अलग-अलग चार टीमों ने यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग की जो सभी यात्रियों की सामान्य निकली। इसके बाद उनके सामान को सेनेटाइज किया गया और आगे नपा कर्मचारियों द्वारा नाश्ता दिया गया। इसके बाद उनकी लिस्टिंग करके एक-एक करके बस में बैठाया गया। पंद्रह दिन पहले जन्में बच्चे को लेकर आई महिला किरण ने बताया कि पंद्रह दिन पहले बच्ची का जन्म हुआ था, जहां अभी तक थे वहां पर खाने और रहने की समस्या होने लगी थी ऐसी स्थिति में बच्ची के साथ रहना मुश्किल हो गया, लेकिन जैसे ही ट्रेन जाने की सूचना मिली तो कुछ राहत मिली। रेल प्रशासन ने ट्रेन आने के पहले और टे्रन जाने के बाद स्टेशन को सेनेटाइज किया है।
14 बसों से किए गए यात्री रवाना
सभी यात्रियों को 14 बसों से रवाना किया गया वहीं कुछ यात्री जो ललितपुर के थे उन्हें चार पहिया वाहन करके भेजा गया। बसों से बीना के अलावा सागर जिला की अलग-अलग तहसीलों सहित पन्ना, छतरपुर, दमोह, टीकमगढ़, बांदा, ललितपुर के यात्रियों को रवाना किया गया।
जाना था इलाहाबाद आ गए बीना
लुधियाना से इलाहाबाद जाने वाले तीन यात्री सीमा, सूरज, रंजीत टे्रन में सवार होकर बीना तक आ गए, जिन्हें प्रशासन ने नजदीकी यूपी के जिले तक भेजने की व्यवस्था की। क्योंकि दूसरे राज्य में एमपी के वाहनों की एंट्री में दिक्कत हो रही है। सीमा ने बताया कि वह ग्वालियर स्टेशन पर उतर रहे थे, लेकिन वहां उतरने नहीं दिया और कहा कि अगले स्टेशन पर तुम लोगों को घर भेजने की व्यवस्था है जिस बजह से वह उलटे कई किलोमीटर दूर बीना पहुंच गए।
प्लेटफॉर्म के बाहर निकलते ही गायब हुई सोशल डिस्टेंसिंग
प्लेटफॉर्म पर लगे आरपीएफ और जीआरपी के जवानों ने किसी भी यात्री को सोशल डिस्टेंसिंग नहीं तोडऩे दी, लेकिन जैसे ही यात्री बाहर आए लोग एक दूसरे से सटकर खड़े रहे। यह सब पुलिस के सामने होता रहा, लेकिन वह बाहर सोशल डिस्टेंस का पालन नहीं करा सके। इसके लिए स्वयं डॉक्टरों की टीम को ही बार-बार लोगों को समझाइश देकर दूर करना पड़ा।
केवल छह सौ यात्रियों को नाश्ता की व्यवस्था, दो से ज्यादा रह गए भूखे
नपा अधिकारियों द्वारा यात्रियों के नाश्ता की व्यवस्था सही नहीं होने के कारण करीब दो सौ से ज्यादा यात्री भूखे रह गए, क्योंकि नगरपालिका ने केवल ६ सौ यात्रियों के नाश्ता की व्यवस्था कीथी, लेकिन ठीक इसके विपरीत आठ सौ से ज्यादा यात्री पहुंच गए, जिससे सभी लोगों को नाश्ता नहीं मिल सका। नाश्ता में प्रति व्यक्ति दो केला, पानी बोतल व एक बिस्किट का पैकेट दिया जा रहा था। इस दौरान नगरपालिका के इंजीनियर गैर जिम्मेदार बयान देते हुए नजर आए और कहा कि जिसको नाश्ता मिल गया तो ठीक आगे की व्यवस्था नहीं हो सकती। मीडिया के दखल के बाद एसडीओपी ने सीएमओ से फोन पर बात की जिसके बाद कुछ लोगों के लिए केला भेजे गए, लेकिन तब तक कई लोग जा चुके थे।
कई पटवारी नहीं पहुंचे ड्यूटी पर, होंगे नोटिस जारी
कोरोना जैसी महामारी के समय मेंभी सरकारी नुमाइंदे ड्यूटी करने में लापरवाही दिखा रहे हैं। शनिवार को यात्रियों की व्यवस्था के संबंध में करीब 12 पटवारियों की ड्यूटी लगाई गई थी, जिसमें केलव तीन से चार पटवारी पहुंचे और कुछ देर के बाद वह भी चले गए। जब इसकी जानकारी ली गई तो आरआई ने तहसीलदार संजय दुबे को सूचना दी, जिन्होंने पटवारियों को नोटिस जारी करने की बात कही है।
यह अधिकारी रहे व्यवस्था में मौजूद
यात्रियों को घर भेजने के लिए व्यवस्थाओं के लिए अपर कलेक्टर अखिलेश जैन, एसडीएम अमृता गर्ग, एसडीओपी डीबीएस चौहान, तहसीलदार संजय दुबे, नायब तहसीलदार कैशाल कुर्मी, स्टेशन प्रबंधक वीके दुबे, सीएमओ पीएस बुंदेला, सीइओ आशीष जोशी, बीएमओ संजीव अग्रवाल, टीआई सौरभ त्रिपाठी, आरपीएफ डीआई विपिन कुमार, जीआरपी थानाप्रभारी एसएन मिश्रा, डिप्टी एसएस संजय जैन सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।

anuj hazari
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned