यूरिया के लिए मारामारी : यहां पुलिस थाने से किसानों को बांटा जा रहा खाद

किसानों की भीड़ देख घबराए विपणन संघ के अधिकारियों ने पर्ची काटने थाने में बैठाया कर्मचारी, 15 दिन बाद स्टॉक पहुंचते ही गोदाम के बाहर लग गई थी किसानों की भीड़

सागर. यूरिया की किल्लत कभी इतना भयंकर रूप ले लेगी, शायद ही किसी ने यह अंदाजा लगाया होगा। खाद की मारा-मारी के कारण हालात यह हो गई है कि अब पुलिस के साये में खाद का वितरण किया जा रहा है। प्रदेश का शायद यह पहला मामला होगा जहां पर पुलिस थाने से पर्चियां काटकर किसानों को खाद का वितरण हो रहा है। यह स्थिति बनी है जिले के गढ़ाकोटा में, जहां पर व्यापारी खाद बेचने में रुचि नहीं ले रहे हैं और सहकारी समितियों में भी खाद के स्टॉक की कमी है।

सोमवार को 15-20 दिन बाद गढ़ाकोटा स्थित राज्य विपणन संघ की गोदाम पर खाद पहुंचने की सूचना मिलते ही ढाई सौ से तीन सौ किसानों की भीड़ लग गई। बड़ी संख्या में किसानों को देख विपणन संघ के कर्मचारी भी घबरा गए। पहले तो पुलिस सुरक्षा मांगी, लेकिन जब थाने जवान नहीं पहुंचे तो अपने कर्मचारी को पुलिस थाने में बैठा दिया। थाने में बैठा विपणन संघ का कर्मचारी पर्चियां काट रहा है और उसके बाद किसान को खाद का वितरित किया जा रहा है।

किसानों के पास सीमित समय
मौके पर मिले किसानों का कहना था कि हमारे पास बोवनी के लिए सीमित समय है, एेसे में हम यह नहीं चाहते कि बोवनी में देरी हो और नुकसान उठाना पड़े। यही कारण है कि अब किसान किसी भी कीमत पर यूरिया लेने के लिए तैयार है। जानकारी के अनुसार विपणन संघ को मजबूरन गढ़ाकोटा थाने से खाद का वितरण करना पड़ रहा है। गोदाम के मैनेजर मुन्ना लाल ने बताया कि गोदाम के बाहर सुबह से ही किसानों की भीड़ जमा हो गई थी, और व्यवस्था बिगडऩे की आशंका थी, पुलिस जवान भी अलग से नहीं मिल सके, नतीजतन थाने से ही पर्चियां काटना शुरू कर दिया।

सैकड़ों किसानों की भीड़ लग गई थी
गढ़ाकोटा में वितरण केंद्र के बाहर सैकड़ों किसानों की भीड़ लग गई थी। किसी प्रकार का विवाद न हो इसी के चलते थाने में अपना कर्मचारी बैठाया है। जिले के अधिकांश केंद्रों पर किसानों की एेसी ही भीड़ हो रही है। हालांकि अभी तक किसी प्रकार का विवाद की सूचना नहीं है।
देवेंद्र यादव, जिला प्रबंधक, विपणन संघ

मदन गोपाल तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned