बाढ़ में फंसे 12 लोगों को बचाया,पर वृद्धा और दो बच्चों का यह हुआ हाल

रंग लाया जवानों का अभियान: हेलीकॉप्टर से कोशिश हो गई थी नाकाम

By: govind agnihotri

Published: 20 Jul 2018, 09:56 AM IST

सागर.तेज बारिश के बाद उफान पर आई बीना व बेबस नदी के बहाव में फंसे 12 लोगों को गुरुवार सुबह एसडीआरएफ, पुलिस और होमगार्ड के दस्ते ने बचाकर सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया। बचाव दलों ने खुरई के मंझेरा और बण्डा के निहानी गांव के पास बाढ़ में फंसे ग्रामीणों को जान जोखिम में डालकर बाहर निकाला। जबकि नरयावली के हीरापुर में वृद्धा और रहली के बैदवारा में एक बच्चा पानी में डूब गया। वहीं गढ़़ाकोटा में सुनार की धार में एक किशोर भी बह गया।
मछली पकडऩे गए थे, तभी बेबस आ गई थी उफान पर
बंडा. बंडा से 10 किमी दूर निहानी गांव के पास बुधवार शाम नदी में मछली पकडऩे गए आठ युवक और एक चरवाहे को रात भर बेबस नदी की बाढ़ में फंसे रहने के बाद गुरुवार सुबह होमगार्ड की टीम ने बचा लिया। होमगार्ड डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट संतोष शर्मा ने बताया सुबह 9 बजे बचाव अभियान शुरू किया गया। बंडा से 10 किमी दूर निहानी गांव तक पहुंचने के बाद नदी तक बोट को उठाकर ले जाना पड़ा। मुलायम आदिवासी, प्रीतम आदिवासी, गोरे लाल आदिवासी, राजा आदिवासी, राकेश आदिवासी, हल्लू आदिवासी, राजेन्द्र आदिवासी और राकेश यादव नदी में उफान के कारण करीब 150 मीटर दूर फंसे हुए थे। उन्हें निकालने आपदा प्रबंधन टीम को दो बार नदी में उतरना पड़ा।
बाहर आने के बाद ग्रामीणों ने बताया कि बुधवार शाम को वे नदी से मछली पकड़ रहे थे कि, तभी नदी में पानी बढ़ गया और वे फंस गए। बचाव टीम ने प्रभावितों को पानी से निकालने के बाद स्वास्थ्य परीक्षण कराया। होमगार्ड टीम ने बुधवार को भी अपनी जान जोखिम में डालते हुए खुरई के ग्राम ढकरानियां और बसिया से भी 13 लोगों को नदी के तेज बहाव के बीच से सुरक्षित निकाला था।
रातभर किया इंतजार, सुबह होते ही नदी में उतरी टीम
मंझेरा गांव में बीना नदी की धार में फंसे3 ग्रामीणों को गुरुवार सुबह 8.30 बजे एसडीआरएफ और खुरई एसडीओपी के निर्देशन में तैनात टीम ने टापू से सुरक्षित
बाहर निकाल लिया। लोगों को बचाने के लिए ग्वालियर से हेलीकॉप्टर बुलाया गया था, लेकिन खराब मौसम की वजह से प्रभावितों को एयरलिफ्ट नहीं कराया जा सका था।
गुरुवार को एसडीआरएफ की टीम झिला गांव से कीचड़ के बीच से करीब चार किमी दूरी तय कर हाथों में बोट उठाकर नदी के किनारे तक पहुंची। इधर एसडीओपी खुरई रवि प्रकाश भदौरिया का दल देहात थाना प्रभारी चंद्रजीत यादव के साथ बरोदिया नौनागिर की ओर से बीना नदी के दूसरे छोर पर पहुंचा। नदी का बहाव कम होने पर बचाव टीम ने पानी में बोट उतारी और करीब 1500 फीट दूरी तय कर टापू तक पहुंची।
टीम ने टापू से जगन पटेल, उसकी पत्नी भागवती और 70 वर्षीय जगन्नाथ पटेल को मंझेरा गांव के छोर पर पहुंचाया, जहां पहले से ही परिजन और ग्रामीण मौजूद थे। भागवती बाई ने बताया कि मंगलवार रात को हुई बारिश के कारण नदी का पानी टापू पर बनी झोपड़ी में भी भर गया था। करीब आधा बीघा खेत ही बचा था।
सुनार नदी की धार में फंसकर बहा किशोर
गढाकोटा. कस्बे से सटी सुनार नदी के बहाव में फंसकर गुरुवार शाम करीब 4.30 बजे एक किशोर बह गया। वह शाम को अन्य बच्चों के साथ नदी पर नहाने गया था। मौके पर मौजूद लोगों ने उसे बचाने की कोशिश की लेकिन धारा तेज होने से वे अंदर नहीं उतर पाए। मौके पर बुलाए गए गोताखोर किशोर की तलाश में जुटे रहे, लेकिन शाम 7 बजे तक पता नहीं चल सका।
जानकारी के अनुसार नदी के छोटे पुल के पास साबूलाल वार्ड निवासी हल्ले प्रजापति का 14 वर्षीय पुत्र लक्ष्मण स्कूल के बाद नहाने गया था। नदी पर अन्य लोगों के बीच नहाते समय वह अचानक धार के बहाव में फंस गया। उसकी आवाज सुनकर घाट पर खड़े लोगों ने बचाने की कोशिश की, लेकिन गहराई और नदी का बहाव तेज होने से वे आगे नहीं बढ़ पाए। कुछ ही देर में लक्ष्मण पानी में समा गया। नदी में किशोर के बह जाने की खबर लगते ही पुलिस गोताखोर लेकर पहुंची और तलाश शुरू की गई। शाम करीब ७ बजे तक पुलिस, गोताखोर और स्थानीय लोग नदी में बहे किशोर की तलाश में कई किलोमीटर तक जुटे रहे लेकिन उसका पता नहीं चल सका।

दो स्थानों पर नदी में डूबने से वृद्धा और बच्चे की मौत
बीते दिन तेज बारिश के कारण उफान पर आई नदियों में दो स्थानों पर डूबने से एक वृद्धा और एक बच्चे की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार रहली के बैदवारा में गुरुवार सुबह 10.30 बजे विनोद लोधी का तीन वर्षीय पुत्र नदी पर नहाते समय डूब गया। नदी में डूबने के बाद वहां मौजूद लोगों ने शोर-सुनकर नदी में तलाश की। गांव के मुलू नाम के युवक ने बच्चे को नदी के पानी से बाहर निकाला लेकिन तब तक उसकी सांस थम चुकी थी। उधर नरयावली थाना क्षेत्र में हीरापुर निवासी 70 वर्षीय महिला मुलाबाई आदिवासी गुरुवार सुबह 9 बजे धसान नदी के घाट पर नहाते समय डूब गई। उसके डूबने की सूचना पुलिस को करीब दो घंटे बाद मिली। इस बीच ग्रामीणों ने उसे बचाने की कोशिश लेकिन बचा नहीं पाए। पुलिस ने वृद्धा की डूबने से मौत के मामले में मर्ग कायम किया है।

govind agnihotri Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned