शहर में लगे कचरे के ढेर, नंबर एक होने की राह में रोड़े

शहर में लगे कचरे के ढेर, नंबर एक होने की राह में रोड़े

Hamid Khan | Publish: Jan, 14 2018 08:30:00 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

स्वच्छता एप डाउनलोड करने में भी पिछड़ा शहर

बीना. स्वच्छता सर्वे 2018 शुरू हो गया है, इसके लिए नगरपालिका अपने स्तर पर सफाई रखने की तैयारियां कर रही है, लेकिन उसका रिजल्ट शहर में नहीं दिख रहा है। शहर में निकलते ही जगह-जगह पसरी गंदगी इसमें रोड़ा बन रही है।
वहीं स्वच्छता सर्वे में लोगों के लिए 1 हजार नंबर अपने फीडबैक से दिलाना जरुरी है और स्वच्छता एप डाउनलोड करने पर 400 अंक निर्धारित किए गए हैं, जिसे पूरा करना टेढ़ी खीर नजर आ रहा है। जनभागीदारी के कुल 1400 अंक हैं, जिसे पूरा कर पाना मुश्किल है, क्योंकि अभी तक इस ओर केवल कागजी कार्रवाई की गई है, लेकिन धरातल पर इसमें कोई प्रोग्रेस नजर नहीं आ रही है। यदि यही हाल रहा तो रैङ्क्षकग पाना तो दूर की बात दौड़ में शामिल होना भी मुश्किल रहेगा। सर्वे शुरू हो चुका है और इसके लिए सभी अधिकारी कर्मचारियों के लिए जिम्मेंदारी भी तय कर दी गई है, लेकिन अधिकारी अपनी भूमिका अदा करते नजर नहीं आ रहे हैं। स्टेशन रोड पर सुबह से ही सड़क किनारे इतना कचरा डला रहता है मानों सुबह सफाई की ही नहीं गई हो। पत्रिका ने शनिवार को शहर के वार्डों में जाकर जायजा लिया तो जगह-जगह गंदगी पसरी मिली। जिसमें कच्चा रोड, खुरई रोड, कॉलेज तिराहा, सब्जी मंडी सहित अन्य जगहों पर गंदगी पसरी मिली। जिसे समय पर साफ नहीं कराया जा रहा है।
कचरा फेंकने वालों पर नहीं लगाया जा रहा जुर्माना
सड़कों पर कचरा फेंकने वालों पर कार्रवाई करने में नगरपालिका की लचर प्रकिया के कारण ही लोग सड़कों पर गंदगी फैला रहे हैं। होटल मालिक रात होते ही होटलों से निकलने वाला कचरा सड़कों पर फेंक देते हैं। कॉलेज तिराहे पर खाने की दो होटलों से निकलने वाले कचरे का निष्पादन नहीं किया जाता है और होटल के कर्मचारी सड़कों पर कचरा फेंक चलते बनते हैं।
स्वच्छता एप डाउनलोड करने में शहर पीछे
नगरपालिका के लिए 1200 स्वच्छता एप डाउनलोड करने का लक्ष्य मिला है, लेकिन अभी तक लगभग डेढ़ सौ स्वच्छता एप ही डाउनलोड किए गए हैं। इससे यह बात साफ है कि नपा इसका प्रचार-प्रसार करने में भी पीछे है। क्योंकि नगरपालिका में 142 तो केवल सफाई कर्मचारी है, इसके अलावा नगरपालिका के अन्य स्टॉफ व पार्षदों ने भी एप डाउनलोड नहीं किया है। जिस बजह से यह आंकड़ा अभी केवल डेढ़ सौ तक ही पहुंच सका है।
फैक्ट फाइल
शहर में वार्ड - 25
शहर की अबादी - 67 हजार
सफाई कर्मचारी - 142
स्वच्छता एप लक्ष्य - 1200
अभी तक डाउनलोड स्वच्छता एप - 150

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned