प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में बच्चों को लू और चक्रपात की दी जाएगी जानकारी

 

- राज्यशिक्षा केंद्र ने बनाया वार्षिक कैलेन्डर

By: रेशु जैन

Published: 01 Mar 2020, 04:04 AM IST

 

सागर. शासकीय प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में नए सत्र से एक और नया प्रयोग होने जा रहा है। बच्च्चों को लू, सर्दी, चक्रपात, वज्रपात जैसी आपदाओं से बचने के गुर सिखाए जाएंगे। राज्य शिक्षा केन्द्र ने इसके लिए बाकायदा पूरे साल का कैलेन्डर जारी किया है। हर माह चल रहे मौसम के हिसाब से बच्चों को जानकारी दी जाएगी। अवकाश के दिनों में बाढ़ या भूकंप जैसे आपदा से बचने के लिए बच्चों से मॉक ड्रिल कराने के भी निर्देश जारी किए गए है।

नया शैक्षणिक सत्र जून से शुरू होगा। जून के बाद बारिश का दौर शुरू हो जाता है। इसी दौरान उल्टी दस्त जैसी बीमारीयां सबसे अधिक फैलती हैं। जुलाई अगस्त में जहरीले जीव जंतु सांप, बिच्छू ग्रामीण सबसे अधिक निकलते है। सर्दी के सीजन में बच्चे शीत लहर की चपेट में आकर बीमार हो जाते है। बच्चों को इन परेशानियों से सुरक्षित रखने के लिए राज्यशिक्षा केंद्र ने वार्षिक कैलेन्डर बनाया गया।

स्कूलों में लगेंगे डिस्प्ले बोर्ड

आदेश में हर स्कूल में डिस्प्ले बोर्ड लगाने के भी निर्देश दिए गए। इसके लिए 5 सौ रुपए का बजट भी आवंटित किया गया है। डिस्प्ले बोर्ड पर चाइल्ड हेल्प लाइन, फायर बिग्रेड, पुलिस कंट्रोल रूम, हॉस्पिटल व राज्य हेल्प लाइन के साथ, कलेक्टर, जिला मिशन संचालक, सीईओ जिला पंचायत, जिला शिक्षाधिकारी, जिला परियोजना समन्वयक, बीईओ व बीआरसी के नंबर भी रहेंगे। ताकि बच्चों को किसी भी प्रकार की सुरक्षा की आवश्यकता महसूस होने पर वह इन नंबरों पर संपर्क कर सकें

रेशु जैन Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned