कम दबाव का क्षेत्र और चक्रवाती हवाओं के घेरे से अभी जारी रहेगा बारिश का दौर

कम दबाव का क्षेत्र और चक्रवाती हवाओं के घेरे से अभी जारी रहेगा बारिश का दौर

Sunil Lakhera | Publish: Sep, 07 2018 12:11:03 PM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

बंगाल की खाड़ी में बने कम दबाव की वजह से जिले में मानसून है सक्रिय

विष्णु सोनी . सागर. शहर में पिछले सप्ताह से बारिश का दौर जारी है। बुधवार रात को मानसून के सीजन की सबसे अधिक बारिश हुई, मप्र में सबसे ज्यादा बारिश सागर में दर्ज की गई है। रात में लगभग 4 इंच अथवा 94.6 मिमी बारिश हुई। गुरुवार को दिनभर रुक-रुक यह बारिश का दौर जारी रहा। दिन में 7.0 बारिश दर्ज की गई। मौसम विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी में कम दबाव का क्षेत्र बनने और ऊपरी भाग में चक्रवाती हवाओं का घेरा बनने से बारिश के आसार हैं। शुक्रवार को भी शहर में बारिश होगी।

बारिश की वजह से मौसम में ठंडक घुल गई है। शहर का अधिकतम तापमान सामान्य 5 डिग्री कम 24 डिग्री दर्ज किया गया है, वहीं न्यूनतम तापमान 21 डिग्री दर्ज किया गया है। बारिश से दिन और रात के तापमान में केवल ३ डिग्री का अंतर रह गया है। शहर में कुल बारिश 844.9 मिमी दर्ज की जा चुकी है। पिछले वर्ष ६ सितंबर तक 608.1 मिमी. ही बारिश हुई थी। वहीं मौसम विभाग ने आगामी 24 घंटों में सागर सहित प्रदेश के 17 जिलों में भारी बारिश की चेतावनी जारी की है।

जिले में आवक अधिक होने से घटे सब्जियां के दाम
लोकल और बाहरी आवक के कारण इस समय सब्जियों के दाम काफी घट गए हैं। 10 दिन पहले जहां आलू 15 रुपए और प्याज 20 रुपए तक थी वह आज घटकर 12 और 8 रुपए तक पहुंच गई है। बारिश में महंगे होने वाले टमाटर भी थोक में 8 रुपए किलो तक बिक रहा है। 6 सितंबर को बंद के कारण सब्जियों के दाम और भी घट गए हैं। सब्जी के थोक व्यापारी अजमेरी राइन ने बताया कि बाहर से भरपूर आवक के साथ ही आसपास के क्षेत्र से सब्जी आने के कारण भाव काफी कम हो गए हैं। आपूर्ति के हिसाब से मांग नहीं हो रही है।

बंद के चलते सस्ती हुई सब्जी
6 सितंबर को बंद के दौरान बाहर से मण्डी में सब्जी तो आई, लेकिन उसे खरीदार नहीं मिले, इसके कारण जल्दी खराब होने वाली सब्जियां तो आधे से भी कम रेट पर बिकी। 5 सितंबर को मण्डी में टमाटर 330 रुपए कैरेट पर बिका, जबकि उसके दूसरे दिन ६ सितंबर को डेढ़ सौ रुपए प्रति कैरेट पर भी माल बचा रह गया।

 

MP/CG लाइव टीवी

Ad Block is Banned