फसलों को नुकसान पहुंचा रहे हिरणों के झुंड, किसान परेशान

क्षेत्र में बढ़ी संख्या में हैं हिरण

By: sachendra tiwari

Published: 03 Jan 2021, 09:34 PM IST

बीना. किसान प्राकृतिक मार से पहले से ही परेशान हैं और वहीं जंगली जानवर भी फसलों को क्षति पहुंचा रहे हैं। क्षेत्र में हिरणों की संख्या ज्यादा है और झुंड खेतों में घूमते हैं, जिससे फसलें बर्बाद हो रही हैं। जंगली जानवरों द्वारा जो फसल बर्बाद की जाती है उसका मुआवजा भी किसानों को नहीं मिल पाता है, जिससे किसानों को हर वर्ष नुकसान उठाना पड़ता है।
इन दिनों खेतों में रबी सीजन की फसल लहलहाने लगी है और इस फसल को हिरणों के झुंड खराब कर रहे हैं। ग्रामीण क्षेत्रों में हिरणों की संख्या इतनी ज्यादा है कि किसानों को फसल बचाना भी मुश्किल हो जाता है। किसान खेतों से हिरणों को भगाते समय यह भी ध्यान रखते हैं कि किसी हिरण को चोट न पहुंच जाए। किसान इस संबंध में वन विभाग के अधिकारियों को हर वर्ष अवगत कराते हैं, लेकिन इस समस्या का कोई हल नहीं निकल रहा है। सबसे बड़ी बात तो यह है कि किसानों को नुकसान का मुआवजा भी नहीं दिया जाता है।
जहां से निकलता है झुंड, फसल हो जाती है खराब
किसान रविन्द्र तिवारी ने बताया कि जिस जगह से हिरणों का झुंड निकलता है वहां से फसल खराब हो जाती है। हिरणों के निकलने के बाद फसल जमीन में धंस जाती है। रात के समय भी खेतों में रखवाली करनी पड़ रही है। यदि रखवाली नहीं करेंगे तो फसल सुरक्षित नहीं रहेगी।
खेतों में भोजन, पानी की रहती है तलाश
दिनों-दिन जंगल कम होने के कारण जंगली जानवर आबादी वाले क्षेत्र और खेतों की ओर आने लगे हैं। खेतों में जानवरों को भोजन, पानी मिल जाता है। खेतों में चलने वाले ट्यूबवेलों से इन्हें पानी मिल जाता है और कई बार यह कुत्तों के शिकार भी बन जाते हैं।
आवारा मवेशी भी कर रहे फसल खराब
जंगली जानवरों के साथ-साथ आवारा मवेशी भी किसानों के लिए मुसीबत बने हुए हैं। गांव के लोग मवेशियों को शहर में छोड़कर जा रहे हैं, जिससे फसलें सुरक्षित रहें। यदि गोशालाओं में मवेशी रखें जाए तो किसानों को परेशानी नहीं होगी।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned