हाइटेक होगी होमगार्ड सेवा, ऐप बनेगा डिजास्टर मैनेजर

होमगार्ड लाइन पर निरीक्षण के बाद डीजी ने बताई कार्ययोजना

 

Samved Jain

September, 1303:15 PM

Damoh, Madhya Pradesh, India

सागर. होमगार्ड का इतिहास पुलिस की तरह ही गौरवमयी है, लेकिन अभी तक इसे पर्याप्त महत्व नहीं मिला है। अब हमारा लक्ष्य है कि इसे नई पहचान मिले इसके लिए कम समय में अच्छा काम हो यह तय किया है। यह बात बुधवार को होमगार्ड लाइन पहुंचे डीजी महान भारत सागर ने चर्चा के दौरान कही। डीजी होमगार्ड यहां डिवीजनल और डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट कार्यालय का निरीक्षण एवं संभागीय सैनिक सम्मेलन में शामिल होने आए थे। उन्होंने कहा कि होमगार्ड सेवा को नई पहचान दिलाने के लिए नए सिरे से इसके कायाकल्प की तैयारी है। अब होमगार्ड सेवा भी हाइटेक होने जा रही है। आपदा की स्थिति में जरूरतमंद को अपने नजदीक ही मदद मुहैया हो इसके लिए ऐप का ट्रायल चल रहा है।
एनडीआरएफ की पहल पर प्रदेश की आबादी के एक प्रतिशत लोगों को सिविल डिफेंस वॉलेंटियर के रूप में प्रशिक्षित करने का भी प्लान है। डीजी सागर ने महिला बैरक, भवन, आपदा प्रबंधन सामग्री कक्ष और वाहनों का मुआयना किया। वे पहले डिस्ट्रिक्ट कमांडेंट संतोष शर्मा और फिर डिवीजनल कमांडेंट संगीता डी. कुमार के कार्यालय सहित शस्त्रागार, स्टोर, रिकॉर्ड, निर्माण संबंधी दस्तावेजों का भी सूक्ष्म निरीक्षण किया। उन्होंने बताया नेशनल डिजास्टर और स्टेट डिजास्टर रिलीफ फोर्स की स्थापना ने इसे और महत्वपूर्ण बना दिया है। एसडीआरएफ में शामिल वॉलेंटियरों को कोलकाता में गहरे पानी में उतरकर राहत कार्य के लिए डीप डाइविंग की ट्रेनिंग दिलाई जा रही है।
डीजी सागर ने कहा कि डॉक्टर, तैराक, खनन संबंधी लोगों को सिविल डिफेंस वॉलेंटियर के रूप में जोड़कर उनकी जिओ टैगिंग कराई जा रही है। भविष्य में आपदा की स्थिति में लोगों को मोबाइल ऐप से अपने नजदीकी मददगार की जानकारी मिलेगी।
सैनिकों ने जताई भविष्य की चिंता
सैनिक सम्मेलन में बुधवार शाम को होमगार्ड डीजी के सामने सैनिकों से सबसे ज्यादा चिंता अपने और परिवार के भविष्य को लेकर उठाई। हवलदार मेजर साबूलाल व्यास ने कहा २९ साल होमगार्ड की सेवा में हो गए, लेकिन अब तक प्रमोशन नहीं मिला। कभी अधिकारियों ने अपनी नाराजगी के चलते पीछे धकेल दिया तो कभी किसी दूसरे को उनकी जगह पदोन्नति दे दी। इस पर डीजी ने उनसे पूरे घटनाक्रम पर चर्चा कर आश्वस्त किया। अधिकांश सैनिकों ने भविष्य निधि का मामला उठाया तो डीजी ने इस मामले पर शासन स्तर पर निर्णय होने का हवाला दिया। सैनिकों ने पुलिस भर्ती में होमगार्ड को पहले की अपेक्षा अधिक हिस्सेदारी की मांग भी की।

Show More
Samved Jain
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned