कार्रवाई हो तो चालक लिखें नियमानुसार नंबर

स्टाइलिस नंबर प्लेट लगाना मोटर व्हीकल एक्ट के विरुद्ध

By: anuj hazari

Published: 19 Oct 2020, 10:18 AM IST

बीना. वाहनों पर नंबर मानक के तहत लिखवाए जाते हैं, जिससे किसी तरह की दुर्घटना होने पर संबंधित वाहन का नंबर आसानी से पढऩे में आ सके, लेकिन सैकड़ों वाहनों पर नंबर स्टाइल में लिखे रहते हैं। बहुत से वाहनों पर नंबर की जगह नाम या विभाग का नाम भी लिखा होता है। ऐसे वाहनों पर परिवहन व यातायात पुलिस की नजर नहीं जाती, जबकि नंबर प्लेट के लिए मानक निर्धारित हैं। यदि यातायात पुलिस द्वारा ऐसे लोगों पर कार्रवाई की जाए तो निश्चित ही वाहन मालिक नियमानुसार नंबर प्लेट पर नंबर डलवाएंगे।
घटना कर भागने में हो जाते हैं सफल
स्टाइल में नंबर लिखने के बाद यदि वाहन चालक घटना करता है तो वह आसानी से भाग निकलता है, क्योंकि स्टाइल में नंबर लिखे होने के कारण लोग वह नंबर नहीं पढ़ पाते हैं। यदि सही नंबर लिखा जाए तो ऐसे लोगों के नंबर पढ़कर कार्रवाई कराई जा सकती है।
इस तरह होते हैं स्टाइलिश नंबर
कुछ नंबर प्लेट पर नंबर की जगह परिवार के किसी सदस्य का नाम या फिर जाति आदि लिखी होती है। किसी वाहन का नंबर 214 है तो वह इसे राम लिख लेते हैं। इसी तरह 1235 को आरएसएस और 4141 को पापा लिख लेते हैं।
ये हैं नंबर प्लेट के मानक
मोटर व्हीकल अधिनियम के तहत 70 सीसी के कम पावर वाली बाइक में लगी प्रमुख नंबर प्लेट पर लिखे जाने वाले शब्दों व अंकों की ऊंचाई 15 मिमी, मोटाई 2.5 और अंकों के बीच की दूरी 2.5 मिमी होनी चाहिए। बाइक व तीन पहिया वाहनों की पिछली नंबर प्लेट की ऊंचाई 35 मिमी व मोटाई सात मिमी और नंबरों के बीच खाली स्थान पांच मिमी होना चाहिए। 500 सीसी से कम इंजन वाले तीन पहिया वाहनों की अगली व पिछली नंबर प्लेट पर लिखे जाने वाले अंकों और शब्दों की ऊंचाई 35 मिलीमीटर व मोटाई सात मिमी और नंबरों के बीच खाली स्थान पांच मिमी होना चाहिए। इसके अलावा बाकी वाहनों के लिए दोनों नंबर प्लेट पर अंकों व शब्दों की ऊंचाई 65 मिमी, मोटाई 10 मिमी और शब्दों के बीच खाली स्थान पर 10 मिमी होना चाहिए।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned