नई बस्ती से शहर आने में यात्रियों को लगता है बस से ज्यादा किराया

कुरवाई जाने वाली बसें नहीं आती हैं बस स्टैंड

By: anuj hazari

Published: 20 Oct 2020, 10:01 AM IST

बीना. शहर से कुरवाई, सिरोंज के बीच चलने वाली बसें बस स्टैंड तक नहीं आ रही हैं। जिसके कारण यात्रियों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इसके बाद भी इनपर कार्रवाई कर बस स्टैंड तक लाने के लिए प्रयास नहीं किया जा रहा है। गौरतलब है कि खिमलासा रोड पर शहर में आने व जाने वाली बसों के लिए बस स्टैंड बनाया गया, जहां पर किसी भी शहर जाने के लिए बसें आकर ठहरती हैं और फिर यहीं से दूसरे शहर के लिए रवाना की जाती हैं, लेकिन कुरवाई से आने वाली बस मालिकों की अपनी ही मनमर्जी चल रही है जो कुरवाई-बीना के बीच बसों का संचालन तो कर रहे हैं, लेकिन अपनी सुविधा के लिए यात्रियों को परेशानी में डाल रहे हैं। वह बसों को स्टैंड तक नहीं लाते हैं, जबकि कई लंबे रूट की बसें जो इंदौर, भोपाल, इलाहाबाद सहित अन्य शहरों के लिए चलती हैं वह बसें बस स्टैंड से ही जाती हैं, जिससे यात्रियों को परेशान नहीं होना पड़ता है। बस मालिकों की मनमानी के चलते जिन लोगों को कुरवाई की ओर से आकर दूसरे शहर की यात्रा करनी हो उन्हें नई बस्ती से ऑटो से बस स्टैंड तक आना पड़ता है। साथ ही यात्री कुरवाई की बस पकडऩे के ऑटो बस स्टैंड पहुंच जाते हैं और जब उन्हें जानकारी मिलती है कि बस तो नईबस्ती से मिलेगी तो वह ऑटो में २० रुपए किराया देकर नईबस्ती तक जाते हैं। जितना किराया यात्रियों का कुरवाई से बीना के बीच का नहीं लगता है उससे ज्यादा किराया लोगों को ऑटो में लग जाता है। इसके बाद भी इस ओर पुलिस या प्रशासन द्वारा ध्यान नहीं दिया जा रहा है। जबकि इसी रूट पर चलते वाली लंबी दूरी की बसें बायपास रोड से होते हुए बस स्टैंड तक आ रही हैं।

परमिट नहीं होने का बहाना
बीना-कुरवाई के बीच चलने वाली बसों के चालक बीना तक आने का परमिट नहीं होने का बहाना बताकर अपना पल्ला झाड़ लेते हैं और बसें बस स्टैंड तक लेकर नहीं आते हैं। यदि ऐसा है तो वह नईबस्ती चौकी के पास ही बस खड़े करते हैं तो पुलिस का डर क्यों नहीं रहता है, क्योंकि नईबस्ती बीना से बाहर नहीं है। यह बहाना वह इसलिए बनाते है कि बायपास रोड से बस स्टैंड तक पहुंचने में करीब दस से बारह किलोमीटर का चक्कर बच जाए, लेकिन उनके ऐसा करने से यात्री परेशान होते रहते हैं। लोगों ने बताया कि इस प्रकार से यदि बस मालिक मनमानी करते रहे तो बस स्टैंड का फायदा ही क्या है, जब बस मालिक अपने हिसाब से काम करते हैं, जिनपर प्रशासन की सख्ती भी नहीं है।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned