नंबर एक बनने की होड़ में कर्मचारियों पर डाला जा रहा दबाव, कई अधिकारी, कर्मचारी कर चुके हैं आत्महत्या

एक दिवसीय हड़ताल के बाद संयुक्त मोर्चा ने एसडीएम को सौंपा ज्ञापन

By: sachendra tiwari

Published: 12 Jul 2021, 07:01 PM IST

बीना. मध्यप्रदेश पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा के आह्वान पर सभी पंचायत विभाग के अधिकारी, कर्मचारी सोमवार को एक दिन की हड़ताल पर रहे। साथ ही मांगों को लेकर सीएम के नाम एसडीएम प्रकाश नायक के लिए ज्ञापन सौंपा। कर्मचारियों ने नारेबाजी कर मांगों को पूरा करने की मांग की है। 12 संगठनों ने मिलकर मप्र पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग संयुक्त मोर्चा का गठन कर कर्मचारियों ने मांगों को लेकर प्रदर्शन किया। ज्ञापन के माध्यम से मांग की गई है कि सभी जिलों के अधिकारी नंबर एक बनने की होड़ में कर्मचारियों पर अनावश्यक दबाव बना रहे हैं, जिसके कारण कई अधिकारी, कर्मचारी आत्महत्या तक कर चुके हैं। कर्मचारियों ने कहा कि पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग सरकार की रीढ़ है, जो अपनी मांगों को पूरा कराने के लिए तीन साल से परेशान होकर त्रस्त हो गए हैं। अधिक कार्यभार और वरिष्ठ अधिकारी अपने जिला को नंबर वन बनाने की होड़ में कर्मचारियों का शोषण कर रहे हैं। जिसके कारण कई कर्मचारी मौत को गले लगा चुके हैं। सरकार ने कर्मचारियों के डीए इंक्रीमेंट रोक लिए हैं, तो वहीं हर अभियान में कर्मचारियों को मशीन की तरह उपयोग करते हैं। संयुक्त मोर्चा ने सरकार से मांग की है कि यदि सात दिन में मांगों का निराकरण कर कार्रवाई नहीं की गई तो 18 जुलाई से अनिश्चिकालीन आंदोलन सभी कर्मचारी करेंगे। इसके साथ ही जल्द से जल्द इंक्रीमेंट व डीए देने के साथ पुरानी लंबित मांगों को भी पूरा करने की मांग शामिल है। ज्ञापन सौंपने वालों में जनपद पंचायत सीइओ आशीष जोशी, सचिव संघ अध्यक्ष ब्रजभान ठाकुर, सहायक सचिव संघ अध्यक्ष राहुल ठाकुर सहित जनपद पंचायत स्टॉफ के अन्य कर्मचारी शामिल थे।
यह हुए शामिल
संयुक्त मोर्चा की हड़ताल में सीइओ सहित उपयंत्री, मनरेगा अधिकारी-कर्मचारी, ग्रामीण विकास अभियंता, जनपद कर्मचारी, स्व'छ भारत मिशन के अधिकारी-कर्मचारी, सचिव, रोजगार सहायक, समन्वयक अधिकारी शामिल हुए।

Show More
sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned