VIDEO सालों से निकल रही कांवड़ यात्रा में लगे हर-हर महादेव के जयकारे

आस्था के सामने घुटने टेक देती है कड़ाके की ठंड

By: manish Dubesy

Updated: 19 Jan 2019, 01:58 PM IST

मुकेश राय.बांदरी. बांदरी पहुंची संकल्प कांवड़ यात्रा का शुक्रवार को बांदरी बाजार परिसर में गाजे-बाजे के साथ स्वागत किया गया। सैकड़ों कांवडिय़े अपने कंधे पर कांवड़ लिए और उसके दोनों छोरों पर जल कलश बांधे भोले बम का नारा लगाते हुए भक्ति में लीन दिख रहे थे। इस यात्रा का विशेष महत्व माना जाता है और चाहे वह महिला हो या बच्चा सभी इस यात्रा में नजर आ जाते हैं। पूरा वातावरण जय शिव व हर-हर महादेव, हर-हर नर्मदे के गगनभेदी नारों के साथ गूंज रहा था। शिवपुरीधाम बंगेला में 108 शिवलिंग की प्राणप्रतिष्ठा की जा रही है, जिसमें से 99 शिवलिंग प्राण प्रतिष्ठित हो चुके हैं।


ठंड का नहीं होता असर
आस्था के सामने कड़ाके की ठंड का भी असर इन कांवरियों पर नहीं होता है। शिवपुरीधाम के कांवडिय़े हर साल की भांति इस बार भी माघ मास में बगैर ठंड की परवाह किए बरमानघाट से नर्मदा से जल भरकर शिवपुरीधाम को निकल पड़े हैं। कांवड़ यात्रा बरमान के नर्मदा तट से 15 जनवरी को शुरू हुई जिसका समापन 19 जनवरी को होगा। बताया जाता है कि सभी कांवरिया बरमान से पैदल चलकर शिवपुरीधाम बंगेला जाते हैं।
इसके बाद भग शिवपुरीधाम रजवांस-खुरई रोड पर तिगरा से दक्षिण दिशा में एक किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। इन कांवरियों के जत्थे में सभी वर्ग के कांवरिया शामिल हैं। आश्चर्य यह कि कांवडिय़ों के पास इस भीषण ठंड में भी नाममात्र के साधन होते हैं। इनका जत्था जहां रुक जाता है, वहीं इनका बसेरा होता है। कांवडिय़ों का जत्था मार्ग में पडऩे वाले धर्मशाला या फिर किसी पेड़ के नीचे भी ठहर कर सर्द भरी रात गुजारते हैं। इसके सुबह चार बजे बम बम भोले की आवाज के साथ जत्थों का मार्ग से गुजरना शुरू हो जाता है। वहीं जत्थे में बच्चे, युवा, युवतियां, महिलाएं व बुजुर्ग शामिल हैं। सभी का भोलेनाथ के प्रति आस्था का जुनून देखते ही बनता है।
यात्रा का यह आठवां वर्ष
बरमान नर्मदा से 2011 में कांवर में जल भरकर इस कांवर यात्रा का आरंभ संत सुम्मेरदास महात्यागी जी महाराज ने किया था। यात्रा का यह आठवां साल है। शुक्रवार को ही बांदरी से निकले नेशनल हाइवे फोरलेन तक जाकर बांदरी के अनेक नागरिकों ने विदाई दी। इस मौके पर संत सुम्मेरदास महात्यागी महाराज से अनेक धर्मप्रेमियों ने आशीर्वाद लिया।

manish Dubesy Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned