एजुकेशन भवन किया हैंडओवर, दिल्ली से पत्र का इंतजार

एजुकेशन भवन किया हैंडओवर, दिल्ली से पत्र का इंतजार

govind agnihotri | Publish: Sep, 07 2018 11:01:09 AM (IST) | Updated: Sep, 07 2018 11:01:10 AM (IST) Sagar, Madhya Pradesh, India

केंद्रीय विद्यालय के नोडल अधिकारी ने केंद्रीय विद्यालय संगठन जबलपुर को भेजी जानकारी

 

सागर. डॉ. हरिसिंह गौर केंद्रीय विवि प्रशासन ने केंद्रीय विद्यालय-4 के लिए अपना एजुकेशन भवन केंद्रीय विद्यालय संगठन जबलपुर को हैंडओवर कर दिया है। केंद्रीय विद्यालय-१ के प्राचार्य को इसका नोडल अधिकारी बनाया गया है। जानकारों के अनुसार उनके द्वारा विद्यालय शुरू करने को लेकर प्रपोजल बनाकर जबलपुर भेज दिया है, जहां से एक पत्र दिल्ली भेजा जा चुका है। बताया जाता है कि एक महीने के अंदर कभी भी विद्यालय शुरू करने के लिए पत्र आ सकता है। यही वजह है कि विद्यालय शुरू करने को लेकर तैयारियां जारी हैं। बता दें कि अभी तक यह मामला भवन हैंडओवर की प्रक्रिया के चलते फंसा हुआ था। 1 अगस्त को यह विद्यालय शुरू होना था, लेकिन इस अड़चन के चलते अब तक यह विद्यालय शुरू नहीं हो पाया है।
4 महीने देर से शुरू होगा विद्यालय

भवन हैंडओवर प्रक्रिया में लेटलतीफी के कारण अब 4 महीने बाद यह विद्यालय खुलने जा रहा है। वैसे जून लास्ट में केवी में प्रवेश की प्रक्रिया शुरू हो जाती है। जुलाई से सत्र भी शुरू हो जाता है। शहर के तीन केवी स्कूल शुरू हो चके हैं, जहां पर एक तिहाई कोर्स भी पूरा हो चुका है। एेसे में अब विवि में शुरू होने वाले केवी-४ में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों को अपना समय पर कोर्स पूरा कर पाना मुश्किल होगा। इसका असर बच्चों के परिणामों पर भी पड़ेगा।
विवि के स्टाफ को मिलेगी पहली प्राथमिकता

केंद्रीय विद्यालय में विद्यार्थियों के दाखिले को लेकर यहां एक नया फार्मूला अपनाया जाएगा। यहां सबसे पहले विवि के स्टाफ के बच्चों को प्रवेश में प्राथमिकता दी जाएगी। इसके बाद केंद्रीय कर्मचारियों के बच्चों को प्रवेश दिया जाएगा। इसके बाद बची सीटों पर केंद्र सरकार की ऑटोनोमस बॉडी यानी बैंक के कर्मचारियों के बच्चों को दाखिला मिलेगा। इन सबके बाद राज्य सरकार के कर्मचारियों को दाखिला दिया जाएगा। केंद्रीय विद्यालय-1.2 व 3 में पहले केंद्रीय कर्मचारियों को प्राथमिकता दी जाती है।

फैक्ट फाइल
एजुकेशन भवन में शुरू होगा स्कूल।

फर्नीचर आदि की व्यवस्थाएं विवि ने की।
शुरूआत में केवी-1 के दो शिक्षक दाखिला लेने वाले बच्चों को पढ़ाएंगे।

जरूरत पडऩे पर विज्ञापन जारी कर शिक्षकों की होगी नियुक्तियां।
कक्षा 1 से 8वीं तक होगा विद्यालय।

1 कक्षा के लिए 40 सीटें सुरक्षित।

Ad Block is Banned