scriptKnow: Where are invisible shops, sales are happening | जानिए: कहां पर हैं अदृश्य दुकानें, हो रहा विक्रय | Patrika News

जानिए: कहां पर हैं अदृश्य दुकानें, हो रहा विक्रय

- 31 साल में नहीं बन पाया कटरा में दीनदयाल कॉम्प्लेक्स
- दोबारा काम शुरू हुआ लेकिन कमजोर निर्माण एजेंसी के चलते बार-बार बंद हो जाता है निर्माण कार्य
- राशि जुटाने के लिए निगम प्रशासन डिजाइन दिखाकर कर रहा है दुकानों का विक्रय, नहीं मिल रहे ग्राहक

सागर

Published: March 26, 2022 10:28:43 pm

सागर. कटरा बाजार में नगर निगम मार्केट के सामने स्थित जमीन पर डीडी कॉम्प्लेक्स (दीनदयाल कॉम्प्लेक्स) निर्माण के लिए एक बार फिर से आभाषी दुकानों को बेचने की प्रक्रिया शुरू हुई है। पहली बार वर्ष-1991 में नगर सुधार न्यास ने उक्त जमीन पर डीडी कॉम्प्लेक्स बनाने के लिए डिजाइन दिखाकर लोगों से पैसे ले लिए थे। जब न्यास का नगर निगम सागर में विलय हो गया तो पूरा प्रोजेक्ट अधर में लटक गया और एक दर्जन लोगों के लाखों रुपए फंस गए। अब निगम प्रशासन ने 31 साल बाद ठीक उसी पैटर्न पर इस कॉम्प्लेक्स का निर्माण शुरू कराया है। नींव का काम पूरा होने के बाद निगम प्रशासन ने डिजाइन के आधार पर दुकानों को बेंचने का काम शुरू किया है। पूर्व में न्यास के समय लोगों का पैसा फंसने और नगर निगम प्रशासन की लोगों में विश्वसनीयता कम होने के कारण शहर के व्यापारी यहां पर दुकानें खरीदने से कतरा रहे हैं।
ऐसे उलझ रहे मामले
निगम प्रशासन ने पूर्व में जिन लोगों ने दुकानों के लिए पैसे जमा किए थे, उनको नए प्लान में दुकानें देने से मना कर दिया था जिसके बाद लोगों ने हाई कोर्ट की शरण ली और वहां से उन्हें राहत मिली। बीते दिनों हाई कोर्ट ने एक मामले की सुनवाई करते हुए निगम प्रशासन को एक दुकान खाली रखने के निर्देश दिए थे। बताया जा रहा है कि अब तक ऐसे तीन मामले हो चुके हैं। निगम प्रशासन ने पूर्व के पक्षकारों को दुकानों के आवंटन में प्राथमिकता नहीं दी।

जानिए: कहां पर हैं अदृश्य दुकानें, हो रहा विक्रय
जानिए: कहां पर हैं अदृश्य दुकानें, हो रहा विक्रय
डीडी कॉम्प्लेक्स का विवादित रहा है इतिहास
- डीडी कॉम्प्लेक्स वर्ष-1991 से ही विवादों में घिरा रहा है। नगर सुधार न्यास का नगर निगम में विलय होने के बाद इस जमीन पर मालिकाना हक की लड़ाई शुरू हो गई थी और निगम प्रशासन मुश्किल से वर्ष-2016 में केस जीता था।
- केस जीतने के बाद जैसे ही निगम प्रशासन ने इस जमीन को विकसित करने का प्रयास किया तो बीच शहर में स्थित जमीन को ग्रीन बेल्ट घोषित कर दिया और फिर बड़ी मुश्किल से जमीन का उपयोग परिवर्तन हो पाया।
- पैसों की कमी के कारण तीन साल में निगम प्रशासन डीडी कॉम्प्लेक्स की सिर्फ नींव ही खड़ी करवा पाया है। निर्माण एजेंसी की ओर से जो लोग यहां पर काम कर रहे हैं वे पूर्व में कई घपलों में शामिल रहे हैं, जिसके कारण अब यहां पर दुकानों खरीदने के लिए बहुत कम जोर रुचि दिखा रहे हैं।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

सीएम Yogi का बड़ा ऐलान, हर परिवार के एक सदस्य को मिलेगी सरकारी नौकरीश्योक नदी में गिरा सेना का वाहन, 26 सैनिकों में से 7 की मौतआय से अधिक संपत्ति मामले में हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला को 4 साल की जेल, 50 लाख रुपए जुर्माना31 मई को सत्ता के 8 साल पूरा होने पर पीएम मोदी शिमला में करेंगे रोड शो, किसानों को करेंगे संबोधितपूर्व विधायक पीसी जार्ज को बड़ी राहत, हेट स्पीच के मामले में केरल हाईकोर्ट ने इस शर्त पर दी जमानतRenault Kiger: फैमिली के लिए बेस्ट है ये किफायती सब-कॉम्पैक्ट SUV, कम दाम में बेहतर सेफ़्टी और महज 40 पैसे/Km का मेंटनेंस खर्चआजम खान को सुप्रीम कोर्ट से फिर बड़ी राहत, जौहर यूनिवर्सिटी पर नहीं चलेगा बुलडोजरMumbai Drugs Case: क्रूज ड्रग्स केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को NCB से क्लीन चिट
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.