चौराहे के बेशकीमती जमीन पर फिर हो गया कब्जा, मुंह ताकते रह गए जिम्मेदार

नपा की अनदेखी, खाली कराने के बाद चौराहे के समीप फिर जम गया मीट मार्केट, मकरोनिया चौराहे के पास करीब एक साल पहले खाली कराया मीट मार्केट, प्रशासनिक अधिकारियों ने जद्दोजहद कर खाली कराया था सालों से जमा अतिक्रमण।

 

सागर. उपनगरीय क्षेत्र मकरोनिया में प्रशासनिक अधिकारियों ने दमखम के साथ सालों से शासकीय भूमि पर कब्जा कर संचालित हो रहे जिस मीट मार्केट को जमीदोज किया था, वहां पर फिर से मार्केट जम गया है। इसमें नपा सरकार की लापरवाही स्पष्ट रूप से उजागर हो रही है। हैरत की बात तो यह है कि नपा सरकार एक साल पहले भी स्वयं की जमीन से अतिक्रमण नहीं हटा सकी थी और अब दोबारा हुए कब्जे को हटाने में भी पीछे हट रही है। जबकि यह तय है कि यदि नपा के जिम्मेदार अनदेखी न करते तो दोबारा मार्केट जमना मुश्किल था।

- विवाद के बाद भी नहीं रुकी थी कार्रवाई
तत्कालीन तहसीलदार मानवेंद्र सिंह द्वारा करीब एक साल पहले हटवाए गए अतिक्रमण में क्षेत्र के कांग्रेस नेताओं ने जमकर विरोध किया था। कार्रवाई में जैसे ही जेसीबी चली तो लोगों की भीड़ जमा हो गई और कुछ ही देर में यहां पर अतिक्रमणकारी व कांग्रेस नेताओं की भीड़ बढ़ती गई, लेकिन पुलिस की मुस्तैदी और तहसीलदार के निर्देश पर कुछ ही समय पर मीट मार्केट को जमीदोज कर दिया गया, लेकिन इस कार्रवाई को एक साल होने को उसके बाद भी नपा अपनी जमीन सुरक्षित नहीं कर सका है।

- पार्र्किंग और सुलभ कॉम्पलेक्स का होना है निर्माण
चौराहे के समीप नरसिंहपुर रोड पर जिस जगह मीट मार्केट संचालित है वहां पर नगर पालिका ने पार्र्किंग, सुलभ कॉम्पलेक्स और स्वयं का मार्केट विकसित करने की तैयारी कर रहा था। हालाही में हुई पीआइसी की बैठक में भी चौराहे के समीप सुलभ कॉम्पलेक्स निर्माण का बिंदु शामिल किया गया था। अब नपा के सामने यही चुनौती होगी कि वह दोबारा से जमीन कैसे खाली कराए।

- जवाब देने भी तैयार नहीं सीएमओ
नगर पालिका प्रबंधन की लापरवाहियों और स्वयं की अनदेखी को लेकर सीएमओ रामचरण अहिरवार भी जवाब देने से बच रहे हैं। लगातार उजागर हो रहे अनियमितताओं के मामलों को लेकर सीएमओ हर तरफ से घिर रहे हैं। यही कारण है कि अब वे जिम्मेदारी लेने से बच रहे हैं।

मदन गोपाल तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned