प्रधानमंत्री आवास योजना : पक्के मकान वाले लोगों को भी दे दी बीएलसी योजना की किश्त

निगम के इंजीनियर्स और टैक्स कलेक्टर्स हैं फर्जीवाड़े में शामिल

By: Samved Jain

Published: 24 May 2018, 03:07 PM IST

सागर. प्रधानमंत्री आवास योजना के बीएलसी घटक में बड़ा फर्जीवाड़ा सामने आ रहा है। जिन लोगों के पास पहले से ही पक्के मकान थे, उन्हें भी नगर निगम के इंजीनियर्स व टैक्स कलेक्टर्स ने हितग्राही बताकर योजना का लाभ दे दिया है।


शहर के आंबेडकर वार्ड में ९ तो विवेकानंद वार्ड के ४ हितग्राहियों के मामले में जिला प्रशासन से लिखित में शिकायत की गई है। संतकबीर वार्ड के निवासी सीताराम प्रजापति का आरोप है कि नगर निगम के अधिकारियों ने फर्जी हितग्राहियों के साथ मिलकर बीएलसी योजना की राशि का बंदरबांट करना शुरू कर दिया है।


यहां भी है झोल
भगतसिंह वार्ड, संतकबीर, गुरुगोविंद सिंह जैसे वार्डों में करीब ५० लोगों को फर्जी हितग्राही बताकर योजना की पहली किश्त दी गई है। सूत्रों की मानें तो इसका खुलासा तब हुआ जब नगर निगम के ही अन्य अधिकारी बीएलसी योजना की दूसरी किश्त देने के लिए सर्वे कर रहे थे। सर्वे के दौरान पता चला कि जिन लोगों को हितग्राही बनाया गया है, उनके पास पहले से ही पक्के मकान हैं।


५० : ५० में हुआ सौदा
इंजीनियर्स व टैक्स कलेक्टर्स और फर्जी हितग्राहियों के बीच बीएलसी योजना की राशि मिलने पर ५०:५० में सौदा तय हुआ है। योजना के तहत कुल ढाई लाख रुपए की राशि मिलनी है। कई वार्ड एेसे भी हैं जहां स्थानीय पार्षद भी इस फर्जीवाड़े में शामिल हैं। पहली किश्त के रूप में लोगों को ५०-५० हजार रुपए की राशि मिली थी।


& मेरे पास अभी एेसी कोई शिकायत नहीं आई है। प्रभारी मंत्री के कार्यक्रम में व्यस्त था। गुरुवार को इस मामले को दिखवाता हूं, यदि एेसा पाया जाता है तो संबंधितों के विरुद्ध कार्रवाई करेंगे।

 

अनुराग वर्मा, निगमायुक्त


ये लगाए आरोप
शहर के दोनों वार्डों में एेसे लोगों को योजना का लाभ दिया गया है जिनके पास पहले से ही तीन-तीन मंजिला भवन हैं।
परिवार का मुखिया शासकीय सेवा में है और उच्च स्तरीय जीवन यापन करने वाले भी इस योजना में हितग्राही बन गए हैं।
खुद का मकान होने के बाद भी दूसरे का प्लॉट अपने नाम का बताकर कुछ लोग योजना में हितग्राही बने हुए हैं।


८ फर्जी हितग्राही: सूत्र
भगतसिंह वार्ड में ८ फर्जी हितग्राही होने की बात सामने आ रही है। इन फर्जी हितग्राहियों को बीते दिनों चिन्हित भी किया गया था लेकिन सूत्रों की मानें तो निगम मामले को दबाने में जुट गया है।


शिकायत में इन पर आरोप
अंबेडकर वार्ड: सुरेंद्र राय पुत्र किशोरी राय, संतोष जाटव पुत्र बाबूलाल जाटव, भगवान सींग जाटव, परषोत्तम पुत्र बाबूलाल जाटव, हेमंत पुत्र बाबूलाल जाटव, महेंद्र राय पुत्र किशोरी लाल राय, राघवेंद्र पुत्र किशोरी लाल राय, धीरज जाट, शोभारानी जाट को फर्जी हितग्राही बताया गया है।


विवेकानंद वार्ड: सुशीला कोष्टी पत्नी स्व. कोमल कोष्टी, भगवती पत्नी जानकी प्रसाद, परमानंद पुत्र बाबूलाल कोष्टी, दीपक गुप्ता पुत्र कालीचरण गुप्ता को अपात्र हितग्राही
बताया है।

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned