scriptजगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ का जुड़ी-बुटियों और काड़े से हो रहा उपचार, स्वास्थ्य ठीक होने के बाद करेंगे शहर का भ्रमण | Patrika News
सागर

जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ का जुड़ी-बुटियों और काड़े से हो रहा उपचार, स्वास्थ्य ठीक होने के बाद करेंगे शहर का भ्रमण

ष्ठ माह की पूर्णिमा पर अधिक पानी से स्नान करने के बाद जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ खुद बीमार पड़ गए हैं। यह जानकर आप अचरज भी कर सकते हैं, लेकिन मान्यताओं के अनुसार जगन्नाथ स्वामी अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भाई बलदाऊ के साथ बीमार हो गए हैं।

सागरJun 27, 2024 / 11:18 am

रेशु जैन

bhagvan

bhagvan

7 जुलाई को निकलेगी शहर के एक दर्जन से अधिक मंदिरों से रथयात्रा

सागर. ज्येष्ठ माह की पूर्णिमा पर अधिक पानी से स्नान करने के बाद जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ खुद बीमार पड़ गए हैं। यह जानकर आप अचरज भी कर सकते हैं, लेकिन मान्यताओं के अनुसार जगन्नाथ स्वामी अपनी बहन सुभद्रा और बड़े भाई बलदाऊ के साथ बीमार हो गए हैं। मंदिर के महंत व पुजारियों के द्वारा उनकी देखभाल कर रहे हैं। वैद्य बुलाकर जुड़ी-बुटियों से उपचार किया जाएगा। ठीक होने के बाद शहर भ्रमण के लिए रथ पर सवार होकर निकलेंगे। मंदिरों से रथयात्रा 7 जुलाई को निकाली जाएगी। रथयात्रा की तैयारी शुरू हो गई हैं।
शहर में मुख्य रूप से रामबाग मंदिर, अटल बिहारीजी मंदिर, देव राधा माधवलाल गेड़ाजी मंदिर, चकराघाट स्थित धनुषधारी मंदिर, केशव गंज वार्ड स्थित राधा-कृष्ण मंदिर, वृंदावन बाग मंदिर, साहू समाज, लक्ष्मीनारायण मंदिर, सत्यनारायण मंदिर सहित विभिन्न मंदिरों से भगवान रथ में विराजमान होकर नगर भ्रमण के लिए निकलते हैं। शहर में इस बार भव्य आयोजन की तैयारी है। रथदोज पर नई पोशाक धारण कर भगवान गर्भगृह से बाहर आकर नगर भ्रमण पर निकलेंगे।
मंदिरों में तैयार होगा रथ

मंदिरों में भगवान जगन्नाथ के रथ का निर्माण शुरू किया जाएगा। यह चार रंगों हरे, काले, लाल और पीले रंग का होगा। साथ ही 21 फीट ऊंचे ध्वज भी यात्रा में शामिल होंगे। 1 क्विंटल माल पुआ के साथ ही एक क्विंटल भात का भगवान को भोग लगेगा। यात्रा के साथ राधे-राधे संकीर्तन मंडल भी चलेगा। रामबाग मंदिर के महंत घनश्याम महाराज ने बताया कि इस बार रथयात्रा में भगवान का विशेष श्रृंगार किया जाएगा। वस्त्र, मोर मुकुट एवं श्रृंगार सामग्री वृंदावन से मंगाई जा रही है। मालपुआ का भगवान को भोग लगेगा।

Hindi News/ Sagar / जगत के पालनहार भगवान जगन्नाथ का जुड़ी-बुटियों और काड़े से हो रहा उपचार, स्वास्थ्य ठीक होने के बाद करेंगे शहर का भ्रमण

ट्रेंडिंग वीडियो