आरोपी बेच रहे ट्रेनों में सामान, खतरे में है यात्रियों की सुरक्षा

स्टेशन और ट्रेनों में बढ़ रही दिनों दिन अवैध वैंडरों की संख्या

By: हामिद खान

Published: 26 Jan 2018, 10:00 AM IST

बीना. आपराधिक गतिविधियों में लिप्त चार युवक ट्रेनों में सामान बेचने का काम अवैध रुप से करते हुए पकड़े गए। चारों को मंगलवार देर रात आरपीएफ व सिटी पुलिस की मदद से पकड़ा जा सका।
रात करीब 1.30 बजे भोपाल की ओर से आने वाली कर्नाटका संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से चार अवैध वेंडर चैन पुलिंग करके झांसी फाटक पर उतरे। तभी ड्यूटी पर मौजूद प्रधान आरक्षक अंगद सिंह, आरक्षक अजय तोमर, आरक्षक डेविड ने चारों को रोका तो वो आरपीएफ जवानों से अभद्रता करने लगे। इसके बाद चारों वेंडर भागने की कोशिश करने लगे, जिन्हें झांसी गेट से निकल रही डॉयल 100 में ड्यूटी पर मौजूद सिविल पुलिस के जवानों की मदद से आरपीएफ थाने लाया गया। इसकी जानकारी तुरंत ही आरपीएफ एसआई आरके कौशिक व एसआई आनंदराम को दी। जिन्होंने थाने पहुंचकर चारों पर कार्रवाई की। आरपीएफ एसआई कौशिक ने बताया कि भोपाल में इन वैंडरों पर 307 जैसे मामलों के अपराध कायम हैं। आरपीएफ ने चारों वेंडर सुनील, रफीक, राजू, कन्नू के खिलाफ रेल अधिनियम की धारा 137, 141, 144, 146 के मामला दर्ज कर भोपाल रेल न्यायालय में पेश किया गया। जिसके बाद सुनील व रफीक पर 3 हजार 65 रुपए, राजू और कन्नू पर 2 हजार 565 रुपए का जुर्माना लगाया है।
कहीं भी कर देते हैं चैन पुलिंग
अवैध वैंडर कहीं भी एक्सप्रेस, सुपरफास्ट ट्रेनों की चैन पुलिंग कर रोक देेते हैं, जिससे लूट, डकैती जैसी घटनाओं को भी अंजाम दिया जा सकता है। साथ ही ट्रेनों में जहर खुरानी की घटनाओं को भी ऐसे ही लोग अंजाम देते हैं। यदि आरपीएफ द्वारा इनपर शिंकजा नहीं कसा गया तो किसी दिन बड़ी घटना यात्रियों के साथ हो सकती है । समय—समय पर वैंडर पकड़े तो जाते हैं, लेकिन उन्हें जुर्माना कर छोड़ दिया जाता है और वह फिर से सामान बेचने लगते हैं। इनपर दूसरी बार कार्रवाई करने में लापरवाही ढील बरती जाती है ।

हामिद खान Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned