मॉडल एक्ट से हो जाएगी मंडी की आय कम, कर्मचारियों को होगी परेशानी

मंडी कर्मचारी संघ ने एक्ट लागू न करने सौंपा ज्ञापन

By: sachendra tiwari

Updated: 28 May 2020, 08:55 PM IST

बीना. कृषि उपज मंडियों में मॉडल एक्ट लागू किया जाना है, जिसके विरोध में मंडी कर्मचारी संघ द्वारा गुरुवार को राज्यपाल, मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को ज्ञापन सौंपा गया। सभी कर्मचारी काली पट्टी बांधकर ज्ञापन देने तहसील पहुंचे थे।
ज्ञापन में उल्लेख किया गया है कि शासन द्वारा 1 मई 2020 को अध्यादेश जारी कर प्रदेश की समस्त मंडी समितियों के परिसर के बाहर कृषि उपज की खरीदी, बिक्री को मंडी समितियों के अधिकार क्षेत्र से बाहर करते हुए नियंत्रण मुक्त कर निजी सेक्टर को देने का फैसला लिया है। वह सीधे किसानों से खरीदी करेंगे। जिसमें मंडी समिति का नियंत्रण न होने के कारण किसान को उचित मूल्य मिलने व भुगतान का जोखिम रहेगा। जबकि वर्तमान में मंडी कर्मचारियों की निगरानी में खरीदी होती है। अध्यादेश लागू होने से मंडियों की आय कम होने से आर्थिक संकट आएगा। जबकि मंडी के कर्मचारियों की वेतन, भत्ता, सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पेंशन का भुगतान होने वाली आय से होता है जो प्रभावित होगी। साथ ही हम्माल, तुलावटियों का रोजगार छिनेगा, जिससे परिवार का भरण पोषण करने में असमर्थ होंगे। छोटे व्यापारियों का रोजगार प्रभावित होगा। इसके अलावा कालाबाजारी बढ़ेगी, जिसमें कृषि उत्पादों की कीमतों में वृद्धि होना संभव है। इस एक्ट पर पुनर्विचार करने की मांग की गई है। ज्ञापन सौंपने वालों में संतोष खेर, श्यामसुंदर शर्मा, अभिषेक अग्रवाल, दुलीचंद, गोपाल, अनिल कपूर, वीरेन्द्र सिंह, हर्षा ठाकुर, बनवारीलाल राय, दीपा, मनोहर तिवारी, नितिन रायकवार आदि शामिल हैं।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned