scriptसागर में 18 से 24 जून के मध्य में आएगा मानसून, झमाझम बारिश से मिलेगी भीषण गर्मी से राहत | Patrika News
सागर

सागर में 18 से 24 जून के मध्य में आएगा मानसून, झमाझम बारिश से मिलेगी भीषण गर्मी से राहत

जिले में इन दिनों लोग भीषण गर्मी से परेशान हैं। राजस्थान की ओर से आ रही गर्म हवाओं से तापमान में गिरावट नहीं हो रही है। बुधवार को नौतपा के पांचवें दिन अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री अधिक 44.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया।

सागरMay 30, 2024 / 08:54 pm

रेशु जैन

mansoon

mansoon

नौतपा के पांचवें दिन भी गर्म हवाओं ने किया परेशान, 44 के पार पहुंचा शहर का तापमान

सागर. जिले में इन दिनों लोग भीषण गर्मी से परेशान हैं। राजस्थान की ओर से आ रही गर्म हवाओं से तापमान में गिरावट नहीं हो रही है। बुधवार को नौतपा के पांचवें दिन अधिकतम तापमान सामान्य से 2 डिग्री अधिक 44.2 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। गर्मी से राहत के लिए लोगों को मानसून का इंतजार है। आसमान में टकटकी लगाए लोग अब बारिश का इंतजार रहे हैं।मौसम वैज्ञानिक विवेक छलोत्रे ने बताया कि केरल में मानसून 31 मई को पहुंच जाएगा, जिसके बाद 15 दिनों में ये मध्यप्रदेश में एंट्री ले सकता है। यानी 15 जून तक प्रदेशवासियों को गर्मी से पूरी तरह राहत मिल सकती है।सागर में मानसून की एंट्री की संभावना 18 मई से 24 मई के बीच में बनी हुई हैं। उन्होंने बताया कि सामान्यत: 21 जून को सागर में मानसून के आगमन की तिथि है। इस माह में जलवायु का लक्षण मिला जुला होता है। जून में पहले पखवाड़े में धूप परेशान करेगी, लेकिन तीसरे सप्ताह तक मानसून की एंट्री के बाद गर्मी से राहत मिलेगी। माह का औसत अधिकतम तापमान 37.5 डिग्री सेल्सियस रहता है। औसत न्यूनतम तापमान 25.5 डिग्री सेल्सियस तक पहुंच जाता है।
2019 में 47 डिग्री पहुंचा था पारा

मौसम विभाग से मिली जानकारी के अनुसार जून में अधिकतम तापमान 4 जून 2019 में 47.0 डिग्री दर्ज किया गया था। जो सर्वाधिक था। वहीं न्यूनतम तापमान 20 जून 1966 को 13.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज हुआ था। सर्वाधिक बारिश वर्ष 1894 में 639.1 मिमी दर्ज हुई थी। 24 घंटे में सर्वाधिक वर्षा 235.5 मिमी 24 जून 1890 में दर्ज हुई थी।
क्लाइमेट पैटर्न बदलने से होगी अच्छी बारिश

मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार क्लाइमेट के दो तरह के पैटर्न माने जाते हैं, जिसे अल नीनो और ला नीना कहा जाता है। लंबे समय से अल नीनो एक्टिव था, जिसने पिछले वर्ष मानसून पर कई ब्रेक लगाए और उसे कमजोर बनाया। लेकिन अब अल नीनो खत्म हो चुका है और ला नीना एक्टिव है, जो मानसून को और रफ्तार देने का काम करेगा। मौसम विभाग के मुताबिक, इस बार ला नीना के एक्टिव होने से पिछले साल के मुकाबले ज्यादा बारिश कराएगा।
पिछले वर्षों में कब आया मानसूनवर्ष – मानसून आने की तारीख

2014 – 3 जुलाई

2015 – 23 जून

2016 – 21 जून

2017 – 26 जून

2018 – 27 जून
2019 – 2 जुलाई

2020 – 21 जून

2021 – 12 जून

2022 – 26 जून

2023 – 25 जून

Hindi News/ Sagar / सागर में 18 से 24 जून के मध्य में आएगा मानसून, झमाझम बारिश से मिलेगी भीषण गर्मी से राहत

ट्रेंडिंग वीडियो