सागर. संजोग समिति द्वारा आयोजित जैन युवक युवती परिचय सम्मेलन का समापन रविवार को हुआ। सम्मेलन के दूसरे दिन मप्र के अलावा छत्तीसगढ़, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश और गुजरात आदि स्थानों से युवक युवतियों के साथ उनके अभिभावक साथ आए थे। सम्मेलन में एक ओर जहां युवक -युवती मंच पर परिचय देने के लिए पहुंचे,वहीं दूसरी ओर अभिभावक कुंडली मिलान कर रिश्ता जोडऩे के लिए नजर आए। इस वर्ष सम्मेलन में मंच से परिचय देते हुए शहर में शादी की इच्छा जताई। सम्मेलन ग्रामीण अंचलों से आए अभिभावकों ने बताया कि लड़कियों के विवाह अभिभावक भी शहर में करना चाहते हैं, इसकी वजह अच्छी शिक्षा, चिकित्सा और खुले माहौल को अब युवतियां पसंद कर रही हैं। यही वजह है कि गांव में रहने वाले लड़कों के संबंध करने में परेशानी आ रही है। सम्मेलन में देवरी से आए नेमचंद जैन ने बताया कि उन्हें अपने बच्चे का संबध करना है, और एक ऐसी बहु की इच्छा ै जो पूरे परिवार को संजो कर रखे, इसी आशा के साथ यहां आए हैं। लेकिन लड़कियां अब पढ़ी-लिखी हैं और ग्रामीण इलाकों में जाने की इच्छा उनकी कम है। यहां ऐसे बहुत से अभिभावक हैं जिनके लड़कों की उम्र में ३० वर्ष से अधिक हो गई है। इसके पीछे वजह यह भी है कि लोग अच्छे संबंधों की तलाश कर रहे हैं।

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned