एमपी बोर्ड : परीक्षा के समय सोशल मीडिया से कैंसे बनाएं दूरी, बार-बार करता है सैल्फी का मन

- माशिमं की हेल्पलाइन पर तनाव कम करने के साथ पूछे जा रहे हैं ऐसे सवाल

- देढ़ माह में सागर जिले से पहुंचे करीब 1 हजार कॉल

By: रेशु जैन

Published: 18 Feb 2020, 03:01 AM IST

 

 

सागर. परीक्षा समय नजदीक है। १० दिनों में ही एमपी बोर्ड और सीबीएसई के एग्जाम शुरू हो जाएंगे। ऐसे में परीक्षा के डर के साथ कई तरह से सवाल विद्यार्थियों के मन में आ रहे हैं, और इनका समाधान कर रहे हैं काउंसलर। माशिमं की हेल्पलाइन पर एक विद्यार्थी ने सोशल मीडिया को लेकर सवाल किया और पूछा कि सोशल मीडिया दूर नहीं रह पा रही हूं। बार-बार सेल्फी लेकर उसे अपडेट करने का मन करता है। ऐसी कोई टिप्स दें जिससे मैं मन लगाकर पढ़ाई कर सकूं। इस तरह की परेशानी सिर्फ एक विद्यार्थी की नहीं है। परीक्षा के नजदीक आते ही विद्यार्थी पढ़ाई को लेकर तो तनाव में तो रहते ही हैं। अब इनको एक नई बीमारी लग गई है। माशिमं की हेल्पलाइन में हर दिन इस तरह के फोन पहुंच रहे हैं।
माशिमं में पहुंचने वाले फोन में अधिकांश विद्यार्थी कह रहे हैं कि वे पढ़ाई और मोबाइल, इंटरनेट के बीच सामंजस्य नहीं बिठा पा रहे हैं।

माशिमं हेल्पलाइन प्रभारी वीणा श्रीवास्तव ने बताया कि माशिमं की हेल्पलाइन में १ जनवरी से अब तक १११२८ कॉल पहुंचे हैं। जिसमें सागर जिले की बात करें तो करीब १ हजार विद्यार्थियों ने कॉल करके अपनी क्योरी का समाधान पाया है। इस समय पढ़ाई के साथ सोशल मीडिया से दूरी बनाएं रखने और सेल्फी सिंड्रोम विद्यार्थी प्रश्र पूछ रहे हैं। काउंसलर्स उनकी काउंसलिंग कर पढ़ाई और सोशल मीडिया के बीच सामंजस्य बैठाने की टिप्स दे रही है।

ये हैं विद्यार्थियों के सवाल

10 वीं के विद्यार्थी का सवाल : अभिभावक बोल रहे हैं परीक्षा में ८० फीसदी अंक लेकर आओ। आप बताइए कि मैं क्या करूं, मेहनत तो कर रहा हूं ?

काउंसलर- आप अभिभावक से बोंले की पूरी मेहनत कर रहा हूं। कुछ चैप्टर जो समझ में नहीं आ रहे हैं, उनको तैयार करवाने के लिए अभिभाक से मदद मांगे। जब अभिभावक यह समझेंगे कि यह चैप्टर काफी मुश्किल हैं और इतने कम समय में तैयार नहीं हो सकते, तो आपको 80 प्रतिशत अंक लाने के लिए दबाल नहीं बनाएंगे।

अभिभावक का सवाल : बच्चे को जितना पढ़ाई के लिए बोलता हूं, उतनी ही कम देर वह पढ़ता है। क्या किया जाए?

काउंसलर - जरूरत से ज्यादा पढ़ाई के लिए दबाव बनाने पर कई बार उल्टा असर भी देखने को मिलता है। आखिरी समय में पढ़ाई को लेकर दबाव डालने से बात नहीं बनेगी। बेहतर होगा कि आप मॉक टेस्ट लें, इससे आपको भी पता चलेगा कि उसकी तैयारी किस स्तर पर है। उसे रिलैक्स करने का मौका दें। पढ़ाई का शेड्यूल भी बनवा सकते हैं।

विद्याथी : कम समय बचा है, सिलेबस बहुत बड़ा लगा रहा है। रिवाइज कैसे होगा?

काउंसलर - जो टॉपिक्स आपको आसान लगते हैं, उनको रिवाइज करना शुरू करें। परीक्षा में आप इन्हीं टॉपिक्स से ज्यादा स्कोर कर पाएंगे। रोज मुश्किल टॉपिक्स से जुड़े 5 सवाल हल करें। कई बार बच्चे जो आता है, उसे लंबे समय तक रिवाइज ही नहीं करते। ऐसे में जो नहीं आता, उसके सवाल कुछ-कुछ भले बनने लगें, लेकिन जो पार्ट मजबूत था, वो वीक हो जाता है। अब पहले से तैयार चैप्टर्स के रिवीजन का वक्त है।

 

सीबीएसई का हेल्पलाइन नंबर

1800 11 8004

सीबीएसई 10वीं और 12वीं बोर्ड की परीक्षाएं शुरू गई हैं। शहर में मुख्य परीक्षा २४ फरवरी से शुरू होगी। विद्याथी को परीक्षा के तनाव से बचाने और बेहतर तैयारी के लिए सीबीएसई ने टोल फ्री हेल्प लाइन नंबर 1800 11 8004 शुरू किया। इस नंबर पर देश और विदेश से भी 95 स्कूल प्राचार्य और ट्रेंड काउंसलर्स जुड़े हुए हैं। इनमें एमपी से भी पांच काउंसलर हैं।

एमपी बोर्ड हेल्पलाइन नंबर

- 18002330175
- 0755-2570248

रेशु जैन Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned