रास्ते से निकलने के विवाद पर जानलेवा हमले में घायल वृद्ध की मौत,हत्या का अपराध दर्ज

छावनी में बदला गांव,हत्या का अपराध दर्ज

By: Samved Jain

Published: 24 May 2018, 03:11 PM IST

बीना/सागर. बीना के गुलऊआ गांव में रास्ते से निकलने के विवाद पर जानलेवा हमले में घायल वृद्ध की मंगलवार रात बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज में मौत हो गई। परिजनों ने उसे मंगलवार रात बीएमसी में भर्ती कराया था। वृद्ध अपने बेटे का रास्ता रोक कर बाइक छीनने वाले लोगों को समझाने गया था पर उस पर भी लाठी-रॉड से हमला कर दिया गया। इस मामले में बीना थाने में केस दर्ज है।


वृद्ध की मौत के बाद पुलिस ने आरोपी पक्ष पर हत्या का अपराध दर्ज किया है। बुधवार को जिला अस्पताल परिसर में प्रभारी मंत्री के आगमन के दौरान मृतक के परिजन हंगामा न कर दें, इस आशंका के चलते पुलिस बल की मौजूदगी में शव को मर्चुरी से गुलऊआ रवाना कर दिया गया। शव पहुंचने से पहले ही गांव में पुलिस बल तैनात कर दिया गया था, जो कि अंतिम संस्कार के बाद भी वहां निगरानी बनाए रहा।


बीएमसी चौकी के अनुसार गुलऊआ निवासी लल्लूराम पुत्र हल्के अहिरवार (६१) पर सोमवार को गांव के ही एक परिवार के कुछ सदस्यों ने जानलेवा हमला कर दिया था। मृतक के पुत्र संतोष ने बताया सोमवार शाम उसका भाई कमल बाइक से घर आ रहा था। चौबे परिवार के सड़क पर खड़े ट्रैक्टर को उसने हटाने को कहा तो कुछ युवकों ने मारपीट कर बाइक छीन ली। कमल दौड़ते हुए घर आया जिसके बाद पिता लल्लूराम समझाने के लिए मौके पर पहुंचे तो कुछ लोगों ने उन पर भी लाठी-रॉड बरसाना शुरू कर दिया।


वृद्ध को बीना से सागर किया गया था रेफर
पिता को लहूलुहान हालत में बीना लाया गया जहां से उसे सागर रेफर कर दिया गया लेकिन सिर में गहरी चोट होने से उसे बचाया नहीं जा सका। रात करीब ११.१८ बजे उसकी मौत होने के बाद बुधवार सुबह पुलिस ने पोस्टमार्टम कराया। जिला अस्पताल में प्रभारी मंत्री के सामने पीडि़त परिजनों द्वारा प्रदर्शन करने की आशंका के चलते अधिकारियों के निर्देश पर पुलिस बल मर्चुरी पहुंचा और सुरक्षा के बीच शव को गुलऊआ रवाना कराया। उधर गांव में तनाव की स्थिति को रोकने वहां भी बल तैनात किया गया था जो शाम को अंतिम संस्कार के बाद तक डेरा डाले रहा।

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned