नेशलन लोक अदालत के इस फैसले की हो रही चारों ओर तारीफ, जानिए क्या है मामला

नेशलन लोक अदालत के इस फैसले की हो रही चारों ओर तारीफ, जानिए क्या है मामला
National Lok Adalat 2019 July 14 Sagar

Manish Kumar Dubey | Updated: 14 Jul 2019, 03:05:15 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

नेशलन लोक अदालत के इस फैसले की हो रही चारों ओर तारीफ, जानिए क्या है मामला

प्राइमरी स्कूल के 54 छात्रों को यूनिफॉर्म देने की शर्त पूरी होने पर हुआ समझौता
नेशलन लोक अदालत: जिला, तहसील स्तर पर 43 खंडपीठों में सुलझाए गए प्रकरण
सागर. जिला न्यायालय सहित 43 खंडपीठों में शनिवार को नेशलन लोक अदालत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का शुभारंभ डीजे केपी सिंह ने किया। उन्होंने बताया कि लोक अदालतें प्रकरणों के निराकरण का सबसे सुलभ व सस्ता माध्यम है। लोक अदालतों के माध्यम से प्रकरणों का निराकरण शीघ्र होने से आम जन में कानून के प्रति आस्था बढ़ रही है और समाज में सौहाद्र्रपूर्ण माहौल निर्मित हो रहा है। कार्यक्रम में न्यायाधीशगण डीके नागले, विशेष न्यायाधीश रामविलास गुप्ता, एडीजे मनोज कुमार सिंह, दीपाली शर्मा, पंकज यादव, नीतूकांता वर्मा, विवेक शर्मा, मुकेश कुमार, नवनीत कुमार वालिया, सुरेश कुमार सूर्यवंशी, राकेश कुमार ठाकुर, मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट सहित समस्त न्यायिक मजिस्ट्रेट अनुज कुमार चन्सौरिया, जिला विधिक सहायता अधिकारी, जिला अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष अंकलेश्वर दुबे, सचिव बीके यादव, अरविंद जैन रवि आदि उपस्थित थे।
एेसे हुआ समझौता
लोक अदालत में एक अनूठा मामला सामने आया। इसमें एक पक्ष ने समझौते के लिए एेसी शर्त रखी जो गरीब स्कूली बच्चों के लिए फायदेमंद थी। दरअसल जिला न्यायालय के वकील पवन नन्होरिया को कुछ वर्ष पूर्व एक बाइक सवार आनंद सिंह ने टक्कर मारकर घायल कर दिया था। यह मामला न्यायालय में लंबित था। वकील नन्होरिया ने अपने केस के लिए अधिवक्ता ब्रह्मदेव पांडेय को चुना था। लोक अदालत में समझौते से पूर्व शर्त यह रखी गई थी कि आरोपी को बांसा प्राथमिक स्कूल के ५४ बच्चों को गणवेश दिलाने होंगे। आरोपी ने इस शर्त को माना और स्कूल के सभी बच्चों को गणवेश दिलाई। इसके साथ ही लोक अदालत में दोनों के बीच समझौता हुआ और प्रकरण समाप्त हो सका। प्रतीक स्वरूप दिए पौधे: नेशनल लोक अदालत में समझौता करने वाले दोनों पक्षों को न्यायाधीश गणों ने प्रतीक स्वरूप फलदार और छायदार पौधे वितरित किए। इससे कि पक्षकारों के मन में लोक अदालत की स्मृति को न्याय वृक्ष के रूप में जीवंत रखा जा सके। साथ ही लोक अदालत के दौरान मीडिएशन से संबंधित शार्ट फिल्म का भी प्रदर्शन कर मीडिएशन से होने वाले लाभों से पक्षकारों को
परिचित कराया गया।
इतने प्रकरणों का निराकरण

581-न्यायालय में लंबित
प्रकरण सुलझे
९८५- प्री-लिटिगेशन
प्रकरण निराकृत
१६४-मोटर दुर्घटना के 164 प्रकरण निराकृत
16237100-क्षतिपूर्ति राशि मिली।
१३८-चैक बाउंस प्रकरण निराकृत
५५-आपराधिक प्रकृति
के प्रकरण निराकृत
७७-विद्युत के प्रकरण निराकृत
६२-पारिवारिक विवाद के
प्रकरण निराकृत
८७-अन्य प्रकृति के प्रकरणों
का निराकरण
16237100-पक्षकारों को
क्षतिपूर्ति दिलाई गई
११७- प्रकरण निराकृत
विभिन्न बैंकों के
१९१- प्रकरण निराकृत
बिजली कंपनी के
४०२- प्रकरण निराकृत
नगर निगम के
२७५- अन्य 275 प्री-लिटिगेशन प्रकरण निराकृत
63,91,241- राजस्व प्राप्त हुआ

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned