फोरेंसिक-फिंगर प्रिंट एक्सपर्ट के पहुंचने से पहले ही पुलिस ने पेड़ से उतारकर धुलवा दिया शव

8-10 दिन पुराने शव के पास झाडि़यों में मिला है लोअर व कुछ रुपए

By: Satish Likhariya

Published: 07 Jul 2019, 09:02 AM IST

सागर. आपचंद की गुफाओं के नजदीक जंगल में एक पेड़ पर लटके मिले शव की पड़ताल के दौरान लापरवाही बरतने पर एसपी ने सानौधा पुलिस से जवाब तलब किया है। पुलिसकर्मियों ने जंगल में लटके मिले आठ से दस दिन पुराने शव के आसपास की परिस्थिति संदिग्ध होने के बाद भी फोरेंसिक एक्सपर्ट के आने से पहले ही शव को पेड़ से उतारकर उसे धुलवा दिया था।
इस पर फोरेंसिक टीम ने साक्ष्य प्रभावित होने का अंदेशा जताया था। हालांकि मामला अधिकारियों के संज्ञान में आने के बाद आसपास के क्षेत्र और थानों को शव मिलने के संबंध में जानकारी दी गई है।
जानकारी के अनुसार सानौधा थाने को शुक्रवार दोपहर जंगल में फंदे पर शव लटका होने की सूचना मिली थी। सूचना पर सानौधा थाने से टीआई की अनुपस्थिति में एएसआई हरिशंकर मिश्रा, शाहपुर चौकी प्रभारी एसआई सीएल पटेल पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे। शाहपुर चौकी प्रभारी पटेल ने पेड़ से लटके शव की स्थिति को देखा और वहां मौजूद एएसआई मिश्रा से चर्चा कर फोरेंसिक टीम को खबर दी। आठ से दस दिन पुराना होने से शव बुरी तरह सड़ चुका था और उसमें कीड़े भी लग गए थे।
गंभीर स्थिति को देखते हुए पुलिसकर्मियों ने फोरेंसिक टीम आने से पहले ही शव को फंदे से उतार दिया और मिट्टी का झाग हटाने के लिए उस पर पानी डाल दिया। फोरेंसिक टीम ने शव को फंदे से नीचे उतारने व पानी डालकर चेहरा धोने से साक्ष्य प्रभावित होने पर आपत्ति जताई। परिस्थितियों संदिग्ध नजर आने पर वरिष्ठ पुलिस अधिकारी हत्या कर शव यहां लटकाने के अनुमान से भी इनकार नहीं किया गया है।
एसपी ने जवाब तलब किया है
जंगल में जिस जगह पेड़ से शव लटका मिला वह आपचंद गुफाओं से नजदीक ही है। फंदे पर लटके शव के शरीर पर नीली शर्ट और अंडरवियर ही था जबकि उसका लोअर कुछ दूर झाडि़यों में क्षतिग्रस्त हालत में मिला। फोरेंसिक टीम की आपत्ति पर पुलिसकर्मियों ने शव की शिनाख्त के लिए चेहरा धुलाने की सफाई दी। हालांकि शव की पड़ताल करने पहुंचे एसआई-एएसआई द्वारा फोरेंसिक टीम के पहुंचने से पहले शव फंदे से उतारकर उस पर पानी डालने का मामला सामने आने पर एसपी अमित सांघी ने जवाब तलब किया है। एसपी सांघी के अनुसार फॉरेंसिक टीम के पहुंचने से पहले शव को फंदे से नहीं उतारना चाहिए था। शव पुराना था और उसका चेहरा मिट्टी व झाग से ढंका हुआ था। पुलिसकर्मियों का कहना है कि चेहरा दिखाई देने लगे इस वजह से पानी डाला गया था। पुलिस टीम से एक्सपर्ट के पहुंचने से पहले शव से छेड़छाड़ के मामले में जवाब तलब किया गया है।

Satish Likhariya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned