script…सागर में अब सामने आई बड़ी चुनौती | Now a big challenge lies ahead | Patrika News
सागर

…सागर में अब सामने आई बड़ी चुनौती

– 507 मीटर पर बिछी पाइपलाइन का इनलेट पूरी तरह से हवा में आया – मानसून आने में अभी 7 दिनों का और लग सकता है समय सागर. राजघाट बांध पेयजल परियोजना का इस बार पूरी तरह से दम निकल गया है। शुक्रवार को बांध में सबसे गहराई पर बिछी 507 मीटर की पाइपलाइन का […]

सागरJun 15, 2024 / 05:57 pm

अभिलाष तिवारी

– 507 मीटर पर बिछी पाइपलाइन का इनलेट पूरी तरह से हवा में आया

– मानसून आने में अभी 7 दिनों का और लग सकता है समय

सागर. राजघाट बांध पेयजल परियोजना का इस बार पूरी तरह से दम निकल गया है। शुक्रवार को बांध में सबसे गहराई पर बिछी 507 मीटर की पाइपलाइन का इनलेट(पाइप का मुंह) पूरी तरह से हवा में आ गया। इनलेट के हवा में आने के कारण अब ऑटोमेटिक तरीके से इंटकवेल पंपहाउस तक पहुंचने वाला पानी रुक गया है। निगम प्रशासन को अब शत-प्रतिशत पानी की लिफ्टिंग करनी होगी। निगम प्रशासन के सामने अब तक सबसे बड़ी चुनौती खड़ी हो गई है।

मानसून में 7 दिनों का और लग सकता है समय

मौसम विभाग के अधिकारियों की माने तो अभी मप्र में ही मानसून ने दस्तक नहीं दी है। सागर तक मानसून के पहुंचने में करीब एक सप्ताह का समय लग सकता है। ऐसे में निगम प्रशासन को अब हर दिन चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है।

पानी की बर्बादी पर अब भी नहीं दे रहे ध्यान

शहर में पानी की बर्बादी पर अब भी ध्यान नहीं दिया जा रहा है। शुक्रवारी, शनिचरी, इतवारी के साथ ही बड़ा बाजार क्षेत्र में नल खुलते ही लीकेज के रूप में बड़ी मात्रा में पानी बहता है। मानसून आने में यदि और देरी हुई तो संभागीय मुख्यालय पर पेयजल संकट गहरा सकता है। वर्तमान में शहर के कई क्षेत्रों में 6 से 7 दिनों से जलापूर्ति नहीं की गई है।

पेयजल के नाम पर परेशान

नगर निगम प्रशासन ने इस गर्मी में लोगों को पेयजल के नाम पर जमकर परेशान किया है। अघोषित कटौती के साथ ही शहर में चार से पांच दिनों के अंतराल से पेयजल की आपूर्ति की, जिससे राजघाट में कुछ दिनों की सप्लाई का पानी तो बच गया लेकिन जनता को खूब परेशान होना पड़ा।

Hindi News/ Sagar / …सागर में अब सामने आई बड़ी चुनौती

ट्रेंडिंग वीडियो