नपा ने नालियों के बीच से बिछा दी थी पानी पाइप लाइन, लीकेज होने पर घरों तक पहुंचता है दूषित पानी

नाले से दर्जनों घरों तक पानी की लाइन को पहुंचाया गया

By: anuj hazari

Published: 09 Jan 2021, 07:18 PM IST

बीना. नपा अधिकारी स्वच्छता और सुविधा को लेकर बेहतर काम करने का दम भर रहे हैं, लेकिन हकीकत यह नहीं है। शहर में ऐसी कई जगह हैं, जहां पर लोगों के घरों तक दूषित पानी पहुंच रहा है, लेकिन इसके बाद भी नपा इसमें सुधार कराने के लिए ध्यान नहीं दे रही है। दरअसल शहर में कई जगहों पर यह देखा जाता है कि जो पीने के पानी की पाइप लाइन लोगों को घरों तक गई है वह लाइन खुले स्थान से न डालकर नालियों के माध्यम से घरों तक पहुंचाई गई है, जिससे लोगों के घरों तक दूषित पानी पहुंचता है। जबकि ऐसा बिल्कुल भी नहीं होना चाहिए। ऐसा नहीं है कि इसकी शिकायत लोगों ने नपा में नहीं की है, लेकिन इसके बाद भी अधिकारियों को कोई फर्क नहीं पड़ता है। शहर में स्टेशन रोड पर वीरसावरकर वार्ड से निकले नाले से दर्जनों घरों तक पानी की लाइन को पहुंचाया गया है तो कुछ इसी प्रकार का हाल मारुति मंदिर के पास से निकले नाले का है, जहां भी पानी की लाइन को घरों तक पहुंचाया गया है, जिससे नलों और लाइन में लीकेज वाली जगह खुली होने से नालियां व सेफ्टी टैंक का गंदा पानी भरा रहा जाता है। जब सप्लाई होती है तो गंदा पानी नलों से आता है, जिसे लोग पेयजल में उसका उपयोग करते हैं। गंदे व दूषित पानी पीने से लोगों को बीमार होने का डर भी रहता है। जब नाली से पानी की लाइन डाली जा रही थी, तब भी लोगों ने इसका विरोध किया था, लेकिन तब भी अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था का हवाला देकर पानी की लाइन बिछा दी थी।


नपा ने पहले से नहीं की थी तैयारी


करीब चार वर्ष पहले शहर में गोंडवाना कंपनी द्वारा नई पानी की लाइन पूरे शहर में बिछाई गई थी, लेकिन उस समय नपा ने इसको लेकर तैयारी नहीं की थी कि लोगों को घरों तक लाइन कैसे पहुंचाएंगे, जबकि इसमें मुख्य मार्ग से गलियों और वहां से घरों तक लाइन डालने का काम किया जाना था, लेकिन यहां नपा अधिकारियों की उदासीनता से कंपनी ने मनमाने ढंग से काम किया और जिसका खामियाजा अब शहर के लोग भुगत रहे हैं।

anuj hazari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned