24 फीसदी क्रिटिकल और यूपी के सीमावर्ती मतदान केंद्रों पर होगा सशस्त्र बल का कड़ा पहरा

लोकसभा चुनाव की तैयारियों की समीक्षा के साथ इंतजामों में जुटी पुलिस, क्रिटिकल केंद्रों पर बढ़ेगी सुरक्षा और मतदान के दौरान सीमाएं होंगी सील

By: संजय शर्मा

Published: 29 Mar 2019, 07:01 AM IST

सागर. विधानसभा चुनाव के बाद अब पुलिस प्रशासन ने लोकसभा चुनाव के दौरान कानून व्यवस्था को चाक-चौबंद रखते हुए शांति पूर्ण ढंग से मतदान संपन्न कराने इंतजामों में जुट गया है। पुलिस ने पिछले चुनावों के दौरान केंद्रों की परिस्थितियों, वहां हुए विवादों की समीक्षा कर कुल 2094 मतदान केंद्रों के 24 फीसदी यानि 495 केंद्रों को क्रिटिकल चिन्हित किया है। इन केंद्रों पर स्थानीय बल के साथ ही सशस्त्र बल को भी तैनात किया जाएगा। चिन्हित मतदान केंद्रों जिन क्षेत्रों में हैं वहां लोगों को सचेत करने के लिए सशस्त्र बल के भ्रमण कराने की भी तैयारी की गई है। मतदान संपन्न कराने के लिए जिला पुलिस, एसएएफ के अलावा केंद्रीय अद्र्धसैनिक बलों की सुरक्षा भी मांगी गई है।

सीमावर्ती केंद्रों पर होगा ज्यादा फोकस

सागर के मालथौन, आगासौद, भानगढ़, खिमलासा, बहरोल, बरायठा थाना क्षेत्र यूपी की सीमा से जुड़ते हैं। सीमावर्ती क्षेत्र की विधानसभाओं के तहत आने वाले मतदान केंद्रों की सुरक्षा को लेकर भी पुलिस प्रशासन कड़ी व्यवस्था कर रहा है। इन केंद्रों पर असामाजिक तत्वों की हरकतों को निष्प्रभावी बनाने के लिए मतदान से पहले ही दोनों राज्यों के थाना क्षेत्रों के चिन्हित बदमाश, फरार वारंटियों की धरपकड़ के अलावा रासुका और जिलाबदर की कार्रवाई के निर्देश दिए गए है। पिछले दिनों बार्डर मीटिंग के दौरान भी दोनों राज्यों के अधिकारियों ने अपने सुरक्षा प्लान आपस में साझा किए थे।

उम्मीदवार-नेताओं की पोलिंग पर रहेगी नजर

लोकसभा चुनाव के दौरान पुलिस प्रशासन द्वारा उम्मीदवारों के पोलिंग बूथ पर विशेष नजर रखी जाएगी। निर्वाचन कार्यक्रम के तहत अभी नामांकन जमा कराने और नामांकन वापसी की प्रक्रिया पूरी होने का इंतजार है। लोकसभा चुनाव के मतदान की व्यवस्थाओं के लिए जिले के 2094 मतदान केंद्रों में से क्रिटिकल के रूप में चिन्हित 495 में से 364 ग्रामीण व 131 शहरी केंद्र हैं। मतदान केंद्रों की सुरक्षा की कमान सशस्त्र बलों पर रहेगी। इसके लिए जिला पुलिस ने अद्धसैनिक बलों की 6 कंपनियां निर्वाचन आयोग से मांगी हैं। जबकि एसएएफ की 7 कंपनियों की दरकार भी रखी गई है।

8164 पर प्रतिबंधात्मक कार्रवाई, 35 जिलाबदर

एसपी अमित सांघी के अनुसार निर्वाचन कार्यक्रम को ध्यान में रखते हुए जिला पुलिस थाना स्तर पर लगातार अभियान चलाकर कार्रवाई कर रही है। जनवरी से 25 मार्च के बीच जिले में 8164 के विरुद्ध प्रतिबंधात्मक कार्रवाई की गई। जबकि 35 लोगों को शांति और कानून व्यवस्था को खतरा पैदा करने की आशंका के चलते जिले की सीमाओं से बाहर किया गया है। अवैधानिक रूप से शस्त्र लेकर भय का माहौल बनाने वाले 97 लोगों पर आम्र्स एक्ट और अवैध शराब के परिवहन और बिक्री की सूचना पर 828 लोगों के विरुद्वा 785 प्रकरण दर्ज कर 9895 लीटर शराब जब्त की है।

संजय शर्मा
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned