ग्रामीण क्षेत्रों में यात्री प्रतीक्षालय हुए जर्जर, नहीं की गई सालों से मरम्मत

आसामजिक तत्वों व शराबियों का बना अड्डा

By: sachendra tiwari

Updated: 16 Sep 2021, 07:47 PM IST

बीना. ग्रामीण क्षेत्रों में कई जगहों पर यात्री प्रतीक्षालय जर्जर हो चुके हैं, जिनकी सालों से मरम्मत नहीं कराई गई है, तो वहीं कई जगहों पर यात्री प्रतीक्षालय है ही नहीं है, जिससे लोगों को धूप, बारिश में दुकानों में बैठकरी बसों का इंतजार करना पड़ता है। दरअसल ग्रामीण क्षेत्रों में लोगों को यात्री प्रतीक्षालय की दरकार है, लेकिन वहां पर पक्के निर्माण वाले यात्री प्रतीक्षालय जर्जर हो चुके हैं, तो वहीं दूसरी ओर कई जगहों पर अस्थाई रूप से भी प्रतीक्षालय नहीं बनाए गए है। भरछा तिराहा स्थित यात्री प्रतीक्षालय का भवन जर्जर हो चुका है, फर्स टूट गया है और आसपास गंदगी फैली रहती है। निवारी पंचायत की ओर से सफाई भी नहीं कराई जाती है। यात्री बसों का इंतजार करने के लिए आसपास की दुकानों व पुलिया पर बैठते हैं या फिर सड़क पर खड़े होकर बसों का इंतजार करते हैं। प्रतीक्षालय वर्षों पुराना है, इसमें यात्रियों के बैठने के लिए पर्याप्त जगह है, लेकिन साफ-सफाई और बैठने की व्यवस्था न होने से कोई भी यात्री प्रतीक्षालय की ओर नजर भी नहीं डालता। इतना ही नहीं रात होते ही यहां शराबियों का जमावड़ा हो जाता है। वहीं खिमलासा में प्रतीक्षालय नहीं होने से महिला यात्रियों को दुकानों पर बैठकर बसों का इंतजार करने में परेशानी होती है। कई बार दुकानदार उन्हें वहां से उठा भी देते हैं।
पानी की भी नहीं व्यवस्था
ग्रामीण क्षेत्रों में जहां बसें खड़ीं होती हैं, वहां पर पीने के पानी का अभाव है। यदि वहां हैंडपंप लगाए दिए जाएं तो लोगों को परेशानी नहीं होगी। पानी के लिए भी दुकानों पर जाना पड़ता है।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned