Sunday Political Club मीटिंग में खुलकर बोले सागर शहर के लोग

#Sunday_Political_Club

By: Samved Jain

Updated: 10 Mar 2019, 08:22 PM IST

सागर. देश को एेसे प्रधानमंत्री की आवश्यकता है जो देशवासियों का पूरे विश्व में सम्मान बढ़ाए। देश की सीमाओं की रक्षा करे और किसानों व गरीब जनता के अधिकारों की बात कहे, न कि सिर्फ खोखली भाषणबाजी करके अपने पांच साल निकाल दे। यह बात शहर के अलग-अलग क्षेत्रों के विशेषज्ञों ने पत्रिका द्वारा आयोजित टॉक-शो में कही। टॉक-शो में राजनीतिक दलों के पदाधिकारी भी शामिल हुए जिन्होंने देश के भावी प्रधानमंत्री के लिए एक स्वर में कहा कि जनता जिसे ज्यादा सशक्त, मेहनती और जिम्मेदार समझती हो, उसे ही अपना नेता चुने।

 

ये बोले शहरवासी

-डॉ. शरद सिंह, साहित्यकार : सरदार बल्लभभाई पटेल जैसे शख्सियतें अब नहीं है जो सबको एकजुट करते थे और पूरे देश को एक दिशा में चला देते थे। आम लोगों की जो भी बात करे उसे ही चुनें।

 

डॉ. संदीप सबलोक, प्रवक्ता, पीसीसी : आज के दौर में कुर्सी ही प्राथमिकता हो गई है। अब न गांव की बात होती है और ही गरीबों की। जनता जिस भी व्यक्ति को अपना नेता चुने, वह यह जरूर देखे कि वह ईमानदार, सशक्त, जनसेवा करने वाला है या नहीं। -

डॉ. अरुण सराफ, सेवानिवृत्त सिविल सर्जन : जब कोई सरकार अच्छा काम करती है और वह लोगों से सीधा जुड़ा रहता है तो जरूरी है कि एेसे कामों में राजनीति आड़े न आए। अच्छे कामों का सभी दलों को समर्थन करना चाहिए। -

डॉ. वंदना गुप्ता, समाजसेविका : सकारात्मक राजनीति जहां भी मिले उसे ही जनता को तबज्जो देना चाहिए। एक ही परिवार के लोग अलग-अलग दलों में रहकर क्या करते हैं, अब जनता ये समझने लगी है। -

सुखदेव मिश्रा, वरिष्ठ भाजपा नेता : विकास के नाम पर राजनीति नहीं होना चाहिए, जो सरकार या नेता देश का विकास करता है, तरक्की के मार्ग पर ले जाता है उसे ही चुनना चाहिए। -

प्रभुदयाल पटेल, भाजपा जिलाध्यक्ष : अलटजी, इंदिराजी जैसे नेता आज के दौर में मिलना मुश्किल है। हम सबको मिलकर यह तय करना है कि राष्ट्र सर्वप्रथम है और फिर उसके बाद अन्य कार्य हैं। जनता सशक्त नेता चुने ताकि देश तरक्की कर सके। -

डॉ. धर्णेंद्र जैन, आरटीआई एक्टीविस्ट : जब राजनीति के बिना यह देश एक पल नहीं चल सकता है तो फिर राजनीति गंदी कैसे हुई। कूटनीति गंदी हो गई है। सोनिया गांधी, लालकृष्ण आडवाणी, अरविंद केजरीवाल सभी अपनी-अपनी जगहों पर सशक्त भूमिका में रहे हैं। -

डॉ. रणवीर सिंह, राजनीतिक विशेषज्ञ : लोकतंत्र में हर निर्णय पर जनता की स्वीकृति जरूरी है। संसदीय गरिमा कायम रखनी होगी। सोनिया गांधी चाहतीं तो प्रधानमंत्री बन सकती थी लेकिन उन्होंने देश की संसदीय गरिमा का ध्यान रखा, जो की अच्छा कदम था। -

हरिओम केशरवानी, भाजपा नेता : - देश की जनता समझदार है, जो देश का सम्मान बढ़ाएगा, किसानों व गरीबों की बात करने वाला होगा, उसी को चुनना चाहिए। -

डॉ. सुरेशचंद रावत, समाजसेवी : रोटी, कपड़ा और मकान जो दल या शख्सियत देश की जनता को उपलब्ध कराता है, सही मायने में उसे ही देश का नेता चुनना चाहिए। कई दावेदार हैं लेकिन उनकी जमीनी हकीकत समझने की जरुरत है। -

श्यामसुंदर मिश्रा, सदर मंडल अध्यक्ष, भाजपा : - अटलजी जैसे सर्वमान्य नेता इसी देश में रहे हैं। देश की लोकतंत्र की रक्षा करने में कौन सक्षम है, इसे जनता को ही चुनना है। जो भी आए देश का सम्मान बढ़ाने वाला होना चाहिए। -

राहुल खरे, प्रदेश महासचिव, एनएसयूआई : - शीर्ष नेतृत्व को नहीं बल्कि स्थानीय स्तर पर आपका नेता कैसा है, वह कितना सक्षम और जिम्मेदार है, इसको देखकर नेता चुनना चाहिए। -

अवधेश तोमर, कांग्रेस नेता : - राजनीति में झूठ बोलने की अति हो गई है। कम से कम एेसे नेता को चुनना चाहिए और हमारे प्रधानमंत्री एेसा व्यक्ति बने जो सच का सामना करने में हिचकिचाए न। -

रोहित तिवारी, युवा नेता : - युवाओं को सशक्त बनाए, उन्हें रोजगार के साधन उपलब्ध कराएं ताकि युवा वर्ग सही दिशा में आगे बढ़ सके। एेसे नेता ही हमारा प्रधानमंत्री होना चाहिए जो युवाओं को आगे बढ़ाए। -

Samved Jain
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned