कोरोना संदिग्ध से बचाव के लिए नहीं पर्सनल प्रोटेक्शन इक्यूवमेंट, २ करोड़ का भेजा प्रपोजल

-बीएमसी प्रबंधन ने टीबी अस्पताल में बनाए गए १६ बेड के आइसोलेशन वार्ड के लिए जरूरी चीजों की शासन से की मांग।

By: आकाश तिवारी

Published: 19 Mar 2020, 11:04 AM IST

सागर. बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज (बीएमसी) में कोरोना से निपटने के लिए अभी पुख्ता इंतजाम नहीं हैं। प्रबंधन ने इसके लिए शासन को २ करोड़ रुपए का प्रपोजल भेजा है और सुविधाएं मुहैया कराने की मांग की है। देखा जाए तो यदि बीएमसी को किसी कोराना वायरस का मरीज आता है तो उपचार के अलावा संक्रमण से बचाव के कोई इंतजाम नहीं हैं। पर्सनल प्रोटेक्शन इक्युप्मेंट (पीपीई), डिस्पोजिबल बेडशीट और पिलो, एन-९५ मास्क की कमी बनी हुई है। एेसी स्थिति में यदि कोरोना संदिग्ध मरीज सामने आता है तो प्रबंधन के हाथ पैर फूल सकते हैं। इधर, संक्रमण से बचने के लिए प्रबंधन ने फौरी तौर पर विभागों में डॉक्टरों और स्टाफ को नार्मल फेस मास्क ही बांटे हैं। लेकिन एन-९५ मास्क किसी भी डॉक्टर या स्टाफ को नहीं दिया गया है। बीएमसी अधीक्षक डॉ. एसके पिप्पल की माने तो उन्होंने इन सभी चीजों की मांग को लेकर सूची शासन को भेज दी है और जल्द इनके आने की उम्मीद है।
-संक्रमण रहित रखने दवाओं का छिड़काव

बीएमसी अस्पताल में वार्डों, टॉयलेट, रैलिंग, खिड़की-दरबाजे और दीवारों को संक्रमित करने के लिए बुधवार को एजेंसी द्वारा सफाईकर्मियों के माध्यम से दवाओं का छिड़काव कराया गया। इस दौरान सभी सफाई कर्मी भी फेस मास्क पहने हुए थे। टॉयलेट में नियमित रूप से सफाई कराए जाने के निर्देश दिए गए हैं। इसके अलावा अस्पताल में लगे पर्दों को बदला गया है।
-यह भेजी है डिमांड

पीपीई-५००
सेनेटाइजर-५०० बॉटल

फेस मास्क-१० हजार
डिस्पोजिबल बेडशीट- ३००

पिलो- ३००
एन-९५ मास्क- ५००

वर्जन

शासन को २ करोड़ रुपए का प्रपोजल सभी जरूरी सामान के संबंध में बनाकर भेजा है। जल्द ही इनकी उपलब्धता होगी। अभी २५ पीपीई और ४५ एन-९५ मास्क हैं।
डॉ. एसके पिप्पल, अधीक्षक बीएमसी

आकाश तिवारी Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned