तबादला सूचियां घटा रही पुलिस बल, चुनाव के दौरान बढ़ सकती है मुश्किल

बार-बार बदलाव बना रहा क्षेत्र और असामाजिक तत्वों से अधिकारियों को अनभिज्ञ

By: Satish Likhariya

Published: 10 Mar 2019, 10:19 AM IST

सागर. मुख्यालय स्तर से जारी हो रही तबादला सूचियां लगातार जिले में पुलिस अधिकारियों की कमी बढ़ा रही हैं। पुलिस अधिकारियों की संख्या में कमी और लोकसभा चुनाव की तैयारियां को लेकर असमंजस में हैं। हालांकि जिले में शुक्रवार को चार निरीक्षकों ने पुलिस मुख्यालय के आदेश पर आमद दर्ज कराई है लेकिन अभी भी पुलिस अधीक्षक कार्यालय से लेकर थाना और चौकी स्तर पर पुलिस अधिकारियों की कमी बनी हुई है जो लोक सभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने के बाद मुश्किल की वजह बन सकती है।

जानकारी के अनुसार जिले में विधानसभा चुनाव के बाद से ही पुलिस अधिकारी तबादले पर जा रहे हैं, यह सिलसिला लगातार जारी है। पुलिस अधीक्षक कार्यालय में भी जिम्मेदार पद रिक्त पड़े हुए हैं। अधीक्षक कार्यालय में मुख्यालय डीएसपी मयंक ङ्क्षसह चौहान के तबादले के बाद से इस पद पर कोई नया अधिकारी नहीं आया है। जिले में पूर्व में तीन एएसपी पंकज पांडे, एएसपी रामेश्वर यादव और एएसपी बीना विक्रम सिंह परिहार पदस्थ थे। इनमें से विस चुनाव से पहले एएसपी पंकज पांडे तबादले पर ग्वालियर चले गए। उनके जाने के बाद से एक एएसपी पद रिक्त पड़ा था जिस पर नए अधिकारी के आने की उम्मीद जताई जा रही थी लेकिन शुक्रवार को पुलिस मुख्यालय द्वारा एएसपी रामेश्वर ङ्क्षसह का तबादला कर उनकी सेवाएं लोकायुक्त संगठन को सौंप दी गईं हैं। वहीं उनके स्थान पर भोपाल से एएसपी के रूप में राजेश व्यास को सागर भेजने के आदेश शनिवार को जारी किए गए हैं लेकिन अब भी एक एएसपी पद रिक्त है।

चुनाव पूर्व तबादले बढ़ाएंगे मुश्किल

लोकसभा चुनाव की आचार संहिता कभी भी लागू हो सकती है जबकि अब भी पुलिस महकमे में ऊपर से लेकर निचले स्तर तक तबादले जारी हैं। हाल ही में जिले के अनुभागीय पुलिस अधिकारियों को बदला गया है। जबकि बण्डा अनुभाग के एसडीओपी संतोष डेहरिया को तबादले पर जिले से बाहर भेजा गया है। थाना प्रभारियों के भी अस्सी फीसदी तबादले यहां से वहां किया जा चुका है। एेसे में अब मैदान में मौजूद पुलिस अधिकारियों के लिए थाना क्षेत्र नए हैं। यह स्थिति लोकसभा चुनाव के निर्वाचन कार्य के लिए तैनात अधिकारी, सुरक्षा बलों के सहयोग और असमाजिक तत्वों की पहचान-धरपकड़, क्षेत्र विशेष की संवेदनशीलता की स्थिति को पहचानने में मुश्किल खड़ी करने वाली है।

कोतवाली-खुरई में दो साल में बदले पांच टीआई
जिला मुख्यालय सागर और पूर्व गृहमंत्री भूपेन्द्र सिंह के विधानसभा मुख्यालय खुरई स्थित शहरी थाने में पिछले दो साल में सबसे ज्यादा पांच बार टीआइ बदले गए। कोतवाली थाने से दो साल पूर्व नवल आर्य की रवानगी के बाद अभिषेक वर्मा को थाने की कमान सौंपी गई। कुछ दिन बाद ही वर्मा को गोपालगंज थाने भेज दिया गया और कोतवाली थाने में अनिल मौर्य को तैनात किया गया लेकिन उन्हें भी चंद महीने बाद मोतीनगर थाने के पदस्थ कर दिया गया। उनके स्थान पर एसपीएस परिहार को कोतवाली थाने में तैनात किया गया और खुरई थाने की जिम्मेदारी सौंप दी गई। परिहार के खुरई जाने के बाद विपिन ताम्रकार के हाथ कोतवाली थाने की कमान आई लेकिन कुछ समय बाद ही उन्हें पहले खुरई और फिर मोतीनगर थाने बुला लिया गया। वहीं परिहार को वापस कोतवाली लाया गया पर वे तबादले पर विधानसभा चुनाव से पहले ही जिले से बाहर चले गए और उनके अब कोतवाली की कमान निरीक्षक राजेश बंजारे के हाथ है

Satish Likhariya Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned