साथी ने ही की थी रहीश की हत्या, इस कारण से हुआ था विवाद

sachendra tiwari | Publish: Jan, 14 2019 09:30:20 PM (IST) Sagar, Sagar, Madhya Pradesh, India

मामला बारधा में हुई हत्या का

बीना. ग्राम बारधा में हुईहत्या के मामले में पुलिस ने दो दिन में ही खुलासा कर दिया और आरोपी भी पुलिस गिरफ्त में आ गया है। जिसमें बकरी चराने साथ में गए युवक ने ही हत्या की थी और पहले वह पुलिस को गुमराह कर रहा था। बाद में उसने हत्या करने की बात कबूली। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।
थाना प्रभारी अनिल मौर्य ने बताया कि मृतक रहीश की मां और राजा पिता गणेशी पाल (21) निवासी बारधा साथ में बकरी चराने के लिए जाते थे और इसी दौरान आपसी संबंध बन गए थे। इस बात की जानकारी जब रहीश को मिली तो वह इंदौर से काम छोड़कर गांव आ गया था और राजा को लगातार धमकी दे रहा था। ११ जनवरी को राजा अपने साथ रहीश को भी बकरी चराने के लिए ले गया था, जहां दोनों के बीच विवाद हुआ। रहीश ने राजा को गांव छोड़कर चले जाने की धमकी भी दी। इसके बाद बातों-बातों में ही विवाद इतना बढ़ गया कि राजा ने रहीश का डंडा छीनकर मारपीट शुरू कर दी और जब रहीश जमीन पर गिरा तो ईंट से उसके सिर पर कई वार किए, जिससे रहीश की मौत हो गई। रहीश की मौत होने के बाद शव को नाले में छिपाकर उसे टहनियों, सूखों पत्तों से ढंक दिया था। पूछताछ के बाद आरोपी ने रहीश को मारने की बात कबूल की। आरोपी को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जा रही है। पुलिस टीम में थाना प्रभारी के साथ एसआईसंजय शर्मा, अंबिका पांडेय, मीनेश सिंह, सुरभि बिलथरे, उमेश लखरे, आरक्षक दयाराम, लोकेन्द्र यादव, भूपेन्द्र शामिल थे। गौरतलब है कि २०१० में एक हत्या के मामले में रहीश और उसके पिता को सजा हुईहै। पिता तभी से जेल में हैऔर रहीश जमानत पर बाहर था जो इंदौर में जाकर काम करता था और कभी कभार ही गांव आता था। आरोपी राजा ने सोचा था कि हत्या करने के बाद शक पूर्वहुए में हुए विवाद करने वालों पर ही जाएगा और वह बच जाएगा।
रुपए देने की बात पर हुआ था शक
थाना प्रभारी ने बताया कि आरोपी राजा पाल ने पुलिस को बताया था कि रहीश को उसके परिवार के साथ किसी कार्यक्रम में बाहर जाना था, इसके लिए उसने उसे सौ रुपए दिए थे, लेकिन जब मृतक की तलाशी ली गईतो उसके पास रुपए नहीं मिले। इसी बात पर पुलिस को राजा पर शक हुआ और पूछताछ शुरू की थी।
पूरे समय मौजूद था मौके पर आरोपी
जिस दिन रहीश का शव नाले में मिला था वहां पूरे समय आरोपी राजा मौजूद रहा और पुलिस को बयान भी दिए थे, लेकिन उस समय पुलिस को गुमराह करते हुए कहा था कि हरीश दोपहर ३ बजे वहां से निकल गया था और कहीं बाहर जाने की बात कहकर गया था। जिससे किसी को उसपर तत्काल शक भी नहीं हो रहा था। उसने शव को नाले से बाहर निकालने में भी मदद की थी।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned