सात दिन बाद खुली मंडी, चना, मसूर के दामों में आया उछाल

ढाई हजार क्विंटल हुई आबक

By: sachendra tiwari

Published: 03 Apr 2021, 09:35 PM IST

बीना. कृषि उपज मंडी सात दिन बाद शनिवार को खुली और चना, मसूर सहित सभी उपज के दामों में उछाल आया है, जिससे किसान खुश नजर आए। मंडी खुलते ही करीब ढाई हजार क्विंटल की आबक दर्ज की गई है और अब सोमवार को आबक ज्यादा होने की उम्मीद है।
मंडी खुलने पर चना और मसूर में करीब दो-दो सौ रुपए का उछाल आया है। चना ४९५० रुपए और मसूर ५५५० रुपए क्विंटल तक बिकी। वहीं शरबती गेहूं तीन हजार रुपए क्विंटल के ऊपर और १५४४ गेहूं दो हजार रुपए क्विंटल तक बिका। किसान मंडी खुलने का इंतजार कर रहे थे और शनिवार को अच्छे दाम मिलने के बाद अब सोमवार को आबक ज्यादा होने की संभावना है। उपज बेचने आए किसानों ने बताया कि इस वर्ष चना, मसूर के दाम अच्छे होने के कारण थोड़ी राहत मिली है, क्योंकि उत्पादन कम होने से इस वर्ष घाटा हुआ है। आने वाले समय में किसान दामों में और इजाफा होने की उम्मीद लगाए हुए हैं।
समर्थन मूल्य केन्द्र पड़े सूने
मंडी में चना, मसूर के दाम अच्छे मिलने के कारण समर्थन मूल्य केन्द्र सूने पड़े हुए हैं। अभी तक यहां एक भी किसान उपज लेकर नहीं पहुंचा है। जबकि खरीदी २७ मार्च से शुरू हो चुकी है और यदि मंडी में दाम इसी प्रकार रहे तो इस वर्ष चना, मसूर की खरीदी नहीं हो पाएगी। क्योंकि वहां चना व मसूर का समर्थन मूल्य ५१०० रुपए क्विंटल रखा गया है और मसूर के दाम मंडी में इससे ज्यादा हैं। चना भी समर्थन मूल्य के करीब ही पहुंच गया है।
गेहूं भी बिक रहा दो हजार रुपए क्विंटल
समर्थन मूल्य केन्द्रों पर गेहूं की खरीदी भी १ अप्रेल से शुरू हो चुकी है और अभी तक सिर्फ पिपरासर समिति पर एक किसान द्वारा गेहूं बेचा गया है। अन्य केन्द्रों पर किसान नहीं पहुंचे हैं। यहां गेहूं का समर्थन मूल्य १९७५ रुपए तय किया गया है और मंडी में १५४४ गेहूं दो हजार रुपए क्ंिवटल बिका है। क्षेत्र में सबसे ज्यादा बोवनी १५४४ की होती है और केन्द्रों पर भी यही गेहूं बेचा जाता है, क्योंकि शरबती के दाम बाजार में हमेशा ही ज्यादा मिलते हैं।

sachendra tiwari Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned